बाराबंकी : मिट्टी लदे डंपर के चढ़ने से पुत्र व मां की मौके पर दर्दनाक मौत

सिद्धौर बाराबंकी। शुक्रवार को स्थानीय थाना से चंद कदमों की दूरी पर दिन में लगभग 3 बजे मिट्टी लदे डंपर की चपेट में आने से मां-बेटे की पहिए के नीचे दब कर मौके पर दर्दनाक मौत हो गई। आनन-फानन में पहुंची पुलिस ने हंगामा का रुख भापते हुए शव का बिना पंचनामा किए पोस्टमार्टम के लिए बगैर मृतक के परिजनों को बताएं भेज दिया  कई दर्जन लोगों ने थाना पहुंचकर शव की मांग करने पर डटे रहे इंस्पेकटर की लापरवाही से उपद्रव के नजरिए से कई थानों की फोर्स घटनास्थल पर पहुंच गई कोठी पुलिस ने डंपर को हिरासत में लेकर मुकदमा दर्ज कर लिया  पुलिस की इस क्रूर कार्यशैली से क्षेत्र में चर्चा थी आखिर किस वजह के चलते घटनास्थल से मात्र डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर मृतका के परिजनों को बगैर बताए बगैर पोस्टमार्टम किये शव को भेज दिया ग्रामीण व क्षेत्रवासियों में आक्रोश व्याप्त रहाप्राप्त जानकारी के अनुसार कोठी थाना के चंद कदमों की दूर पूरेकारिक मजरा कोठी में हैदरगढ़-बाराबंकी संपर्क मार्ग पर अवैध बीते कई दिनों से असंद्रा थाना क्षेत्र के पश्चिम बेलाव से अवैध मिट्टी खनन की ठुलाई की जा रही थी। 

शुक्रवार को लगभग तीन बजे सादुल्लापुर गांव निवासी महेंद्र व 27 वर्षीय  मीना पत्नी महेंद्र व पुत्र आयुष (7) के साथ कोठी कस्बे में दवा लेकर लौट रहा था तभी पूरे कारिक कर्बला के पास  गुजरे तेज रफ्तार डंपर की चपेट में आने से बाइक सवार मां-बेटे उसकी पिछली पहिए के नीचे आ गए। जिससे कुचलकर उनकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई बाइक सवार महेंद्र भी गंभीर रूप से घायल हो गया। 

इसकी सूचना पुलिस को दी  सड़क दुर्घटना में मां-बेटे की मौत की सूचना पर जब तक करीब एक किलोमीटर दूर से परिजन पहुंचे थे। तब तक पुलिस ने आनन-फानन में क्षत-विक्षत शव को बिना सील किए पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया। लोगों को आक्रोश था। दर्जनों लोग थाने पहुंच गए। जहां हैदरगढ़, जैदपुर, असंद्रा समेत कई थाने की पुलिस फोर्स का नेतृत्व कर रहे सीओ सदर नवीन नवीन सिंह व इंस्पेक्टर संजीत कुमार सोनकर ने प्रधान सादुल्लापुर रामचंद्र रावत को समझा-बुझाकर परिजनों को पंचनामा के लिए जिला मुख्यालय भेजा  घायल महेंद्र को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेज दिया घायल मानवेंद्र के भाई धर्मेंद्र कुमार ने पुलिस की इस कार्यशैली  पर सवालिया निशान खड़ा किए हैं उन्होंने बताया कि आखिर परिजन के पहुंचने के पहले ही शव को क्यों भेजा गया उधर कोई उपयोग ना होने पर इतनी पुलिस फोर्स बुलाने का आखिरी मतलब क्या था उन्होंने अवैध खनन को छिपाने के लिए ऐसी कार्रवाई किए जाने का आरोप लगाया है 

एक तरफ जहां पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ओवरलोडिंग को बंद करने के लिए अभियान चला रहे हैं तो वहीं पर कोठी व असंद्रा पुलिस रात दिन थाने के सामने से डंपर में ऊपर तक मिट्टी भरकर फर्राटा मारते नजर आते हैं इस मामले से अनजान बनी हुई है काफी तेज मिट्टी भरे डंपर चलने से राहगीरों का रोड पर निकलना धूल उड़ने के कारण दुर्लभ हो रहा है जबकि करीब अवैध खनन मिट्टी लदे डम्फरो से लगभग 2 माह में चार मौतें कई घायल हो चुके हैं।

इस संबंध में इंस्पेक्टर संजीत कुमार सोनकर ने बताया है कि शव का पंचनामा भराकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है डंपर को हिरासत में लेकर मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।

Back to top button