बंगाल में बवाल : कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ भाजपा नेताओं ने की “डीपी काली”

कोलकाता । पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता से सटे उत्तर 24 परगना के संदेशखाली में भारतीय जनता पार्टी के पांच कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या करने की घटना के खिलाफ सोमवार को पार्टी ने काला दिन मनाना शुरू कर दिया है। बसीरहाट में पूरी तरह से बंद की घोषणा की गई है। दूसरी ओर सोमवार सुबह से ही भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेताओं ने अपनी सोशल साइट की तस्वीरें काली करनी शुरू कर दी हैं।

राहुल सिन्हा, अर्जुन सिंह समेत अन्य नेताओं ने सोशल साइट पर अपनी डीपी को काला कर दिया है। साथ ही बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी अपना प्रोफाइल पिक्चर काले रंग में बदल दिया है। इधर हुगली जिले से नवनिर्वाचित भाजपा सांसद और महिला मोर्चा की अध्यक्ष लॉकेट चटर्जी ने संदेशखाली की घटना को दूसरा नंदीग्राम बताया है। उन्होंने कहा है कि ममता बनर्जी का शासन काल भारतीय इतिहास में पश्चिम बंगाल के लिए सबसे अंधकारमय अध्याय होगा। संदेशखाली नरसंहार दूसरा नंदीग्राम है। इस घटना के बाद ममता बनर्जी के अंत का काउंट डाउन शुरू हो चुका है।

उल्लेखनीय है कि 2007 में भी नंदीग्राम में इसी तरह से तत्कालीन वाममोर्चा सरकार के संरक्षण में माकपा नेताओं ने नंदीग्राम में गोली चलाई थी। तब गांव के कई तृणमूल समर्थकों की हत्या कर दी गई थी। उसके बाद से पूरे राज्य में वाममोर्चा के खिलाफ माहौल बन गया था और ममता बनर्जी का मुख्यमंत्री बनना सुनिश्चित हुआ था।

गृहमंत्री अमित शाह को हिंसा पर बंगाल सरकार का गोलमोल जवाब

भारतीय जनता पार्टी के पांच कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या किए जाने की घटना पर केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से मांगी गई रिपोर्ट का जवाब बंगाल सरकार ने गोलमोल दिया है। राज्य के मुख्य सचिव मलय कुमार दे ने एक केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को लिखी चिट्ठी में कहा है कि उत्तर 24 परगना की घटना को लेकर पुलिस कार्रवाई कर रही है।

हालांकि पत्र में राज्य के मुख्य सचिव ने इस बात का जिक्र नहीं किया है कि क्या कार्रवाई की गई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से इस मामले में राज्य सरकार से मांगी गई रिपोर्ट के जवाब में मलय ने लिखा है कि चुनाव बाद पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्से में “गैर सामाजिक तत्वों” द्वारा हिंसा को बढ़ावा दिया जा रहा है। राज्य सरकार इस पर लगाम लगाने के लिए पूरी तरह से तत्पर है।

मलय ने लिखा है, उत्तर 24 परगना में भी जो घटना हुई है उसमें पुलिस ने मामला दर्ज किया है। हालात नियंत्रण में हैं और पूरी परिस्थिति पर काफी करीब से निगरानी रखी जा रही है। राज्य सरकार की कानून व्यवस्था संभालने वाली एजेंसियां इस मामले में पूरी तरह सतर्क हैं और सरकार शांति बहाली के लिए काम कर रही है।

उल्लेखनीय है कि शनिवार की रात संदेशखाली में भारतीय जनता पार्टी का झंडा उतारकर फेंकने के बाद शुरू हुए विवाद में भाजपा के पांच कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। तृणमूल ने भी दावा किया है कि उनके तीन कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है। इस घटना पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को राज्य सरकार से रिपोर्ट तलब की थी। जवाब में मुख्य सचिव मलय दे ने एक चिट्ठी लिखी है, लेकिन यह नहीं बताया है कि राज्य सरकार ने क्या कार्रवाई की, कितने लोगों को गिरफ्तार किया गया और घटना का कारण क्या है? पुलिस इसे संभालने में नाकाम क्यों रही आदि। अब देखना होगा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय इस पर क्या रुख अपनाता है।

Back to top button
E-Paper