बेगूसराय भाजयुमो नेता की हत्या से हड़कंप, लाश के साथ किया एसपी कार्यालय का घेराव

बेगूसराय । भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा (भाजयुमो) के निवर्तमान जिला महामंत्री और सामाजिक कार्यकर्ता धीरज भारद्वाज की रविवार को हुई हत्या से बेगूसराय में भारी आक्रोश का माहौल है। इस अप्रत्याशित हत्याकांड से हर कोई सदमे में है। बेगूसराय के सांसद और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी घटना पर दुख जाहिर करते हुए कहा कि युवा भाजपा कार्यकर्ता धीरज भारद्वाज की हत्या हमारे लिए, भाजपा और समाज के लिए बहुत ही पीड़ादायक है। हत्या से समाज का कभी भला नहीं हो सकता।

प्रभु परिवार को इस अपार विपदा को सहने की शक्ति दे। प्रशासन इस पर त्वरित करवाई करे। इधर हत्या की सूचना मिलते ही भाजपा, भाजयुमो, बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद के साथ-साथ सीपीआई एवं राजद समेत अन्य दलों के कार्यकर्ता भी सदर अस्पताल पहुंचे तथा प्रशासन के विरुद्ध आक्रोश जताया। वरिष्ठ भाजपा नेता अमरेंद्रर कुमार अमर, कम्युनिस्ट पार्टी केे नेता अनिल कुमार अंजान तथा राजद के पूर्व जिलाध्यक्ष अशोक यादव ने बेगूसराय में बेखौफ बढ़ते अपराध के लिए प्रशासन की तीव्र निंदा करते हुए अपराधियों को शीघ्र गिरफ्तार नहीं करने पर तीव्र आंदोलन की बातें कही है। वहीं, पोस्टमार्टम के बाद कार्यकर्ताओं ने भाजपा का झंडा ओढ़ाकर अंतिम विदाई दी।

इसके बाद लाश लेकर पैदल ही लेकर नारेबाजी करते हुए एसपी ऑफिस के समीप पहुंच गए और पुलिस प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी किया। मौके पर पहुंचे सदर एसडीओ संजीव कुमार चौधरी और सदर डीएसपी राजन कुमार सिन्हा ने एक सप्ताह के अंदर हत्यारे को गिरफ्तार करने तथा परिजनों को सुरक्षा का आश्वासन देकर मामले को शांत कराया। इसके बाद भारी सुरक्षा के बीच पार्थिव शरीर कैथमा स्थित पैतृक आवास पर ले जाया गया। जहां कि हजारों लोगों ने दर्शन कर विदाई दी तथा वहां से विशाल अंतिम यात्रा छितरौर पहुंची और गंगा तट पर पर अंतिम संस्कार किया गया। बताया जा रहा है कि धीरज भारद्वाज स्थानीय राजनीति में भी दिलचस्पी रखते थे तथा 2016 के नगर निगम चुनाव में मात्र चार वोट से पीछे रह गए थे। इसके बाद उनके ऊपर जानलेवा हमला हुआ था तथा बदमाशों दर्जनों राउंंड गोली चलाई थी जिसमें यह बाल-बाल बच गए तथा प्रशासन ने बॉडीगार्ड भी उपलब्ध कराया था जो बाद में वापस कर लिया गया। इसकेेे बाद सुबह बेखौफ अपराधियों ने घर केे समीप ही ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी।

Back to top button
E-Paper