राजस्थान के एक वोट से BJP की हालत खस्ता, वोटिंग से रिजल्ट तक का चला हाईवोल्टेज ड्रामा

राज्यसभा चुनाव में 4 राज्यों की 16 सीटों पर वोटिंग के बाद जयपुर और बेंगलुरु में काउंटिंग हो रही थी, वहीं हरियाणा और महाराष्ट्र में वोट खारिज कराने के लिए राजनीतिक दलों की गाड़ियां दिल्ली के चुनाव आयोग दफ्तर का चक्कर काट रही थीं। दोपहर 4 बजे शुरू हुआ हाइवोल्टेज ड्रामा करीब 9 घंटे चला।

काउंटिंग के बाद हरियाणा से गांधी परिवार के करीबी नेता और कांग्रेस कैंडिडेट अजय माकन निर्दलीय उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा से चुनाव हार गए। हालांकि, राजस्थान में कांग्रेस की बाड़ेबंदी सफल रही और पार्टी के तीनों कैंडिडेट चुनाव जीत गए। अगर, एक वोट भी पार्टी के तीसरे कैंडिडेट प्रमोद तिवारी को कम मिलता, तो भाजपा यहां जीत सकती थी।

गहलोत की स्ट्राइक से भाजपा बेदम

राज्यसभा चुनाव का बिगुल बजते ही कांग्रेस ने अपने विधायकों को जुटाना शुरू कर दिया था। उदयपुर में जहां पार्टी का चिंतन शिविर हुआ था, वहीं सभी विधायकों को ठहराया गया। इधर, बसपा से कांग्रेस में आए विधायकों और निर्दलीय विधायकों से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद मिलते रहे।

कांग्रेस ने 4 सीटों में से 3 पर कैंडिडेट उतारे थे। तीन सीट जीतने के लिए 123 वोटों की जरूरत थी। वोटिंग के बाद कांग्रेस को 126 वोट मिले हैं। चुनाव में सुरजेवाला को 43, वासनिक को 42 और तिवारी को 41 और घनश्याम तिवाड़ी को 43 वोट मिले। निर्दलीय सुभाष चंद्रा को 30 वोट मिले। वे चुनाव हार गए।

इधर, मतदान के दौरान कांग्रेस के पक्ष में क्रॉस वोटिंग करने की वजह से धौलपुर से विधायक शोभारानी कुशवाहा को भाजपा ने 6 सालों के लिए सस्पेंड कर दिया है। वहीं जीत के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा- 2023 के विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस ऐसे ही जीतेगी।

कुलदीप विश्नोई ने गांधी परिवार के करीबी को हरा दिया

हरियाणा में भाजपा के उम्मीदवार कृष्ण लाल पंवार का जीतना तो तय था, देर रात ढाई बजे एक वोट के रिजेक्ट होने के बाद निदर्लीय उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा को भी विजयी घोषित कर दिया गया। वोटिंग से लेकर रिजल्ट तक पूरा दिन हाईवोल्टेज पॉलिटिकल ड्रामा चलता रहा।

कांग्रेस के आदमपुर विधायक कुलदीप बिश्नोई जब मतदान कर बाहर आए तो कांग्रेसियों के चेहरों पर चिंता साफ झलकी। हालांकि, उन्होंने पार्टी के एजेंट विवेक बंसल को दिखाकर ही अपना वोट डाला। सूत्रों की मानें तो उन्होंने अजय माकन को वोट देने की बजाय क्रॉस वोट किया है।

उन्हें वोटिंग से पहले राहुल गांधी के साथ शाम को मीटिंग का बुलावा भी आया, लेकिन दोपहर होने तक मीटिंग रद्द हो गई। कांग्रेस को विश्वास था कि अगर 31 की बजाए 30 वोट भी मिले तो अजय माकन आसानी से चुनाव जीत जाएंगे। कांग्रेस के दो वोटों के कारण एक बार पेंच अटक गया था।

कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस की लड़ाई में भाजपा के हिस्से में आई तीसरी सीट

कर्नाटक में संख्या के हिसाब से भाजपा के खाते में 2 सीटें ही आ रही थीं, लेकिन 4 सीटों पर हो रहे चुनाव में कांग्रेस ने 2 और जेडीएस ने 1 कैंडिडेट उतार दिए। चुनाव परिणाम में भाजपा के 3 सदस्यों को जीत मिल गई, जबकि कांग्रेस के जयराम रमेश भी उच्च सदन में पहुंचने में कामयाब रहे।

शिवसेना का दूसरा कैंडिडेट हारा

महाराष्ट्र में काउंटिंग के साथ ही शिवसेना को बड़ा झटका लगा। पार्टी के दूसरे कैंडिडेट संजय पवार भाजपा के धनंजय महाडिक से हार गए। चुनाव परिणाम आने के बाद भाजपा के 3, शिवसेना, NCP और कांग्रेस से एक-एक सांसद बने हैं। आयोग ने शिवसेना के एक विधायक का वोट रद्द कर दिया था।

नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) के अध्यक्ष शरद पवार के ‘पावर’ को ध्वस्त करते हुए महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सूबे की सियासत के ‘जादूगर’ साबित हुए हैं। उनकी सधी हुई रणनीति की वजह से महाविकास आघाडी (मविआ) सरकार के कुल 10 वोट फूटे जिसकी वजह से भाजपा की तरफ से राज्यसभा चुनाव में खड़े किए गए तीसरे उम्मीदवार धनंजय महाडिक की विजय हुई है।

Back to top button