ब्रिटेन ने बांग्लादेश, मलेशिया सहित32 देशों से कोविड-19 संबंधी यात्रा पाबंदी हटाई

लंदन। ब्रितानी सरकार ने 32 देशों से कोविड-19 संबंधी यात्रा पाबंदी को हटा दिया है। ब्रिटेन सरकार ने सार्वजनिक स्वास्थ्य के आधार पर जरूरी यात्रा को छोड़कर सभी यात्रा के खिलाफ चेतावनी को बुधवार को अपडेट किया।

एफसीडीओ ने जिन 32 देशों के लिए ट्रैवल एडवाइजरी अपडेट की है उनमें अल्जीरिया, आर्मेनिया, बांग्लादेश, बेलारूस, बेनिन, कोमोरोस, टोकेलाऊ और नीयू, जिबूती, भूमध्यवर्ती गिनी, फिजी, गाम्बिया, गिनी, कजाकिस्तान, किरिबाती, कोसोवो, लाइबेरिया, मेडागास्कर, मलेशिया, मार्शल द्वीप समूह, माइक्रोनेशिया, नाउरू, एस ओ टॉम और पीआर एनसीपीई, सेनेगल, सोलोमन इस्लैंडस, जाना, टोंगा, तुवालु, वानुअतु, कांगो,अमेरिका समोआ, फ्रेंच पॉलीनेशिया, और घाना शामिल हैं। भारत इस पूर्ण यात्रा प्रतिबंध में शामिल देशों में नहीं था।

ब्रिटेन सरकार के सूत्रों ने कहा है कि अतिरिक्त देशों में वैक्सीन प्रमाणन के विस्तार की समीक्षा लगभग हर तीन सप्ताह में की जाएगी, इस सप्ताह पहले तीन सप्ताह के समीक्षा को चिह्नित करने की उम्मीद है। इस बीच, टीकाकरण की स्थिति के बावजूद ब्रिटेन में प्रवेश करने वाले भारतीयों को तीन पीसीआर परीक्षण करने और एक घोषित पते पर आइसोलेट होने की जरूरत है।

नई दिल्ली ने पिछले दिनों ब्रिटिश सरकार को करारा जवाब देते हुए सोमवार से भारत आने वाले ब्रिटिश नागरिकों के लिए क्वारंटीन और आरटी-पीसीआर जांच अनिवार्य कर दिया है। यूके फॉरेन, कॉमनवेल्थ एंड डेवलपमेंट ऑफिस (एफसीडीओ) ने कहा कि बदलाव का मतलब यह है कि लोग आसानी से बड़ी संख्या में यात्रा कर सकेंगे। वहीं, ब्रिटेन के विदेश सचिव लिज ट्रस ने कहा कि इन नियमों में बदलाव से ब्रिटेन भर में यात्रा करना आसान हो जाएगा।

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हममें से अधिक लोगों को मित्रों और प्रियजनों को देखने के बाद मन को शांति मिलेगी। उधर, एफसीडीओ ने कहा कि वह सभी लाल सूची वाले देशों और क्षेत्रों के लिए आवश्यक यात्रा के खिलाफ सलाह देना जारी रखेगा, जहां ब्रिटिश यात्रियों के लिए जोखिम अस्वीकार्य रूप से अधिक है। उसने कहा कि आने वाले दिनों में और देशों और क्षेत्रों के लिए एडवाइजरी हटाने की योजना है।

Back to top button
E-Paper