उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर मनाया गया समारोह

जनमंच में लगायी गयी भव्य प्रदर्शनी, आयोजित हुए विभिन्न कार्यक्रम

निवेश एवं रोजगार को समर्पित रहीं विकास प्रदर्शनी

भास्कर समाचार सेवा

सहारनपुर, उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस समारोह मनाए जाने के क्रम में जनमंच परिसर में यूपी की विकास यात्रा संबंधी एक भव्य प्रदर्शिनी तथा निवेश एवं रोजगार को समर्पित विकास प्रदर्शिनी, उद्यमी सम्मान, क्रीडा प्रतिभा सम्मान, विभिन्न विकास कार्यक्रमों के लाभार्थी परक योजनाअेां के प्रमाण-पत्रों का वितरण तथा लाभार्थीपरक योजनाओं के स्टॉल लगाकर केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी आमजन को उपलब्ध कराई गयी।
प्रदर्शिनी का उद्घाटन विधायक रामपुर मनिहारान देवेन्द्र निम, विधायक नकुड मुकेश चौधरी धरी, अध्यक्ष जिला पंचायत श्री मांगेराम चौधरी धरी, विधान परिषद सदस्य शाहनवाज, जिलाधिकारी अखिलेश सिंह, मुख्य विकास अधिकारी विजय कुमार द्वारा संयुक्त रूप से फीता काटकर किया गया।
सूचना विभाग द्वारा राज्य एवं केन्द्र सरकारी की महत्वपूर्ण एवं जन कल्याणकारी योजनाओं पर आधारित प्रदर्शनी लगायी गयी। इसी के साथ उत्तर प्रदेश स्थापना से लेकर अब तक की विकास यात्रा से संबंधित संकलित अभिलेखों की प्रदर्शनी लगायी गयी। इसमें अंग्रेजी शासन काल से उत्तर प्रदेश के विभिन्न नाम, उत्तर प्रदेश का प्रादेशिक विस्तार, मैप के द्वारा उत्तर प्रदेश की संरचना का क्रमिक विकास, 24 जनवरी 1950 को युनाइटेड प्राॅविंसेज से बदलकर उत्तर प्रदेश रखा गया। अंग्रेजों के शासनकाल में अवध पर नियंत्रण एवं संधि, नार्थ-वेस्टर्न प्राॅविंसेज के मुख्यालय को आगरा से इलाहाबाद पुनः स्थानान्तरित करने संबंधी प्रस्ताव, हिन्दी का न्यायालय की भाषा के रूप में प्रयोग 1899, प्रान्त की प्रशासनिक संरचना संबंधी पेश किये गये बिल, श्रीमती सरोजनी नायडू द्वारा आजादी के दिन दिया गये भाषण, उत्तर प्रदेश की रियासतों संबंधी विलय पत्र, उत्तर प्रदेश का नया नाम और भारतीय संविधान के अनुच्छेद 200 के तहत राज्यपाल द्वारा राजकीय प्रयोजनों में हिन्दी भाषा संबंधी स्वीकृति पत्र 1951 की अभिलेखागार में उपस्थित मूल पत्रावलियों के पत्र जो इतिहास निर्माण के साक्षी बने थे। आज की प्रदर्शनी में जनपदवासियों को देखने के लिए प्राप्त हुए। इन पत्रों को देखकर जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों तथा जनसामान्य को अपने उत्तर प्रदेश का विकास देखकर खुशी हुई।
जिला सूचना अधिकारी दिलीप कुमार गुप्ता द्वारा सभी जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों सहित प्रबुद्धजनों को उत्तर प्रदेश की विकास यात्रा संबंधी प्रदर्शनी के बारे में विस्तार से बताते हुए उत्तर प्रदेश संदेश, उत्तर प्रदेश कहानी बदलाव की तथा सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं एवं उपलब्धियों के बारे में साहित्य उपलब्ध कराया गया।
यूपी दिवस के आयोजन में ओडीओपी, खादी ग्रामोद्योग, कृषि विभाग, उद्योग विभाग, पर्यटन विभाग, पंचायती राज विभाग, शिक्षा, ग्राम्य विकास, समाज कल्याण सहित अन्य विकास परक विभागों द्वारा प्रदर्शनी का आयोजन कर योजनाओं के बारे में लोगो को जन जागरूक किया गया।
विधाकय नकुड मुकेश चौधरी ने कहा कि यूपी शुरूआत से यूपी नहीं था। अंग्रेजी हुकूमत में इसका नाम युनाइटेड प्रोविन्स था। 24 जनवरी 1950 को इसका नाम उत्तर प्रदेश पड़ने के बाद आज हम देश के राज्यों की कोटीक्रम में सर्वोच्चता की श्रेणी में है। निवेश के लिए प्रदेश सुरक्षित स्थानों में से एक है। देश विदेश के निवेशकर्ता यहां निवेश कर रहे हैं, निवेश करने से हमारे यहां युवाओं को रोजगार के भी अवसर मिलेंगे। हमारी 80 हजार माता और बहनें भी शासकीय सहायता से समूह चलाकर कार्य कर रोजगार प्रदान कर रही हैं। उन्होंने उपस्थित सभी लोगों का साधुवाद करते हुए कहा कि हम सब को मिलकर आगे भी इसी तरह से कार्य करना है जिससे प्रदेश विकास के पथ पर आगे बढ़ें। विधायक रामपुर मनिहारान देवेन्द्र निम ने भी प्रदर्शनी में लगे सभी स्टालों का अवलोकन करने के बाद कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा इस तरह की प्रदर्शनी लगाना महत्वपूर्ण कार्य है। उन्होंने ग्रामों से आई प्रतिभाओं की सरहाना करते हुए कहा कि इस तरह की प्रदर्शनी से स्थानीय स्तर की प्रतिभाओं को आगे बढ़ने का अवसर प्राप्त होता है। उन्होंने एक जनपद एक उत्पाद योजना की सराहना करते हुए कहा कि स्थानीय उत्पादों को पहचान मिलने के साथ उनकी बिक्री को बढ़ावा भी मिलेगा।
जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर लगायी गयी प्रदर्शनियों एवं स्टालों को देखने के बाद न केवल उत्तर प्रदेश का विकास बल्कि जनपद के विकास की स्पष्ट झलक दिखाई दी। हमारा निरंतर यह प्रयास है कि जनपद में निवेश और रोजगार के लिए अधिक से अधिक अवसर प्राप्त हों। अभी तक 6700 करोड़ का निवेश प्राप्त हो चुका है। यह सिद्ध करता है कि लक्ष्य से हम काफी आगे निकल चुके है और इसके दोगुने होने की संभावना है।
उपायुक्त उद्योग सिद्धार्थ यादव ने उद्योग विभाग द्वारा संचालित एमएसएमई नीति 2022, आईआईईपीपी नीति 2022, निर्यात प्रोत्साहन नीति 2022 के विषय में जानकारी देते हुए उद्यमियों से निवेश करने की अपील की तथा जनपद के निवेशक प्रमोद सडाना, अनुपम गुप्ता, रविन्द्र मिग्लानी, सुधाकर अग्रवाल को सम्मानित किया गया।
जनमंच सभागार में वृद्धावस्था पेंशन योजना के 10 लाभार्थी, पुत्री विवाह सहायता योजना के 08, बी0सी0 सखी को साडी वितरण के 28, उद्योग विकास के अन्तर्गत 04 लाभार्थियों को बैंकों द्वारा ऋण वितरण, क्रीडा विभाग के 05, महिला कल्याण विभाग द्वारा 15, उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के 05, मुख्यमंत्री पंचायत प्रोत्साहन पुरस्कार योजनान्तर्गत 05, पीएम स्वनिधि योजना के 05, प्रधानमंत्री आवास योजना के 05 लाभार्थी को पुरस्कार एवं प्रमाण पत्र देकर सम्मानित तथा लाभान्वित किया गया। इसी के साथ जनपद की ऐसी विशिष्ट सफल प्रतिभाओं का सम्मान किया गया जो युवा पीढ़ी के लिए अनुकरणीय है।
आज के समारोह में उत्तर प्रदेश की विकासयात्रा वोकल फोर लोकल का सूत्र विभिन्न स्टालों में खाने में मोटे अनाज से लेकर परिधानों, काष्ठ कला, माटीकला में देखने को मिला। इसी क्रम में जनमंच सभागार में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये गये एवं उत्तर प्रदेश के विकास पर आधारित लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन डाॅ0 अर्चना द्विवेदी, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व रजनीश कुमार मिश्र, उप निदेशक कृषि डाॅ0 राकेश कुमार, जिला पंचायत राज अधिकारी आलोक कुमार शर्मा, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी अमित कुमार, पीओ डूडा श्रीमती रजनी पुण्डीर, जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती आशा त्रिपाठी, सहित संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण एवं विभिन्न योजनाओं के लाभार्थीगण उपस्थित रहे।

Back to top button