सीएम योगी के हाथों हाईस्कूल के टॉपर को दिया गया चेक बाउंस, कटी पेनाल्टी  

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के हाथों हाईस्कूल के टॉपर को दिया गया चेक बाउंस हो गया। जिसके बाद हड़कंप मच गया। हालांकि बाद में डीआईओएस ने ऑफिस बुलाकर मेधावी को दूसरा चेक सौंप दिया।

मामला बाराबंकी का है

मेधावी छात्र का चेक बाउंस होने के मामले को अब तक दबाने में जुटे शिक्षा विभाग ने शनिवार को इस पर सफाई देने के लिए पत्रकारों को अपने कार्यालय बुलाया। सबके सामने ही मेधावी छात्र आलोक को एक लाख रुपये का नया चेक सौंप दिया। इस मौके पर डीआईओएस ने दावा किया कि अन्य मेधावी छात्रों के चेक का भुगतान हो गया है।   यूपी बोर्ड की परीक्षा में हाईस्कूल व इंटरमीडिएट में प्रदेश व जिला स्तर के टॉपर छात्रों को सीएम योगी ने लखनऊ में चेक दिए थे। इसमें प्रदेश स्तर पर स्थान बनाने वाले जिले के 14 मेधावियों को एक-एक लाख रुपये और जिला स्तर के दस मेधावियों को 21-21 हजार रुपये का चेक दिया गया था।

दूसरा चेक सौंपते हुए डीआईओएस

दूसरा चेक सौंपते हुए डीआईओएस

इनमें हाईस्कूल में प्रदेश में सातवीं रैंक हासिल करने वाले यंग स्ट्रीम के छात्र आलोक मिश्रा ने चेक अपना चेक देना बैंक के खाते में लगाया तो बैंक ने भुगतान करने से इन्कार कर दिया। बैंक का कहना था कि चेक पर किए गए हस्ताक्षर मेल नहीं खा रहे हैं। शुक्रवार को इस संबंध में छात्र ने डीआईओएस राजकुमार यादव से मुलाकात की थी। मामला सुर्खियों में आया तो डीआईओएस ने कह दिया कि छात्र को दूसरा चेक उपलब्ध करा दिया गया है। शनिवार को पत्रकारों के सामने छात्र को चेक सौंपा गया। उधर, चेक बाउंस होने की खबर के बाद अन्य मेधावी भी अपने चेक के बारे में जानकारी करने बैंक शाखा पहुंचे। हालांकि अवकाश होने उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं हो सकी।

क्या कहा डीआईओएस ने

चेक के बाउंस हो जाने के बाद डीआईओएस राज कुमार ने बताया कि चेक हस्ताक्षर मैच नहीं करने की वजह से बाउंस हो गया है, किसी और छात्र का चेक बाउंस नहीं हुआ है ना ही किसी ने इस तरह की शिकायत की है। छात्र को नया चेक मुहैया करा दिया गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर कोई और वजह हुई तो कार्रवाई की जाएगी। यह मामला मुख्यमंत्री से संबंधित है, लिहाजा मुद्दे को गंभीरता से लिया जाएगा।

Back to top button
E-Paper