स्कूल खुलने पर खुशी से झूमे बच्चे, मास्क व सेनेटाइजर लेकर पहुंचे बच्चे, अभिभावकों ने दिया भरपूर सहयोग

प्रतापगढ़। जिले के प्राइमरी स्कूलों में सोमवार को छोटे-छोटे छात्र-छात्राओं की खिलखिलाहट सुनने को मिली। लगभग साल भर बाद छोटे-छोटे बच्चे आज मास्क लगाकर अपने-अपने स्कूलों में पहुंचे थे। उनके चेहरे पर खुशी झलक रही थी। स्कूलों में भी बच्चों के हाथों में सेनेटाइजर छिड़का गया तथा उनकी थर्मल स्कैनिंग कर उन्हें क्लास में जाने दिया गया जहां कक्षाओं में उन्हें दूर-दूर बैठाया गया। मास्क पहने दूर-दूर बैठे बच्चे आज एक अलग अंदाज में दिखाई दिये।
नगर के हैप्पी टाइम स्कूल में आज अधिकांश बच्चे मास्क लगाकर सुबह पहुंचे थे। थर्मल स्कैनिंग के बाद उन्हें अपनी-अपनी कक्षाओं में दूर-दूर बैठाया गया था। बच्चे भी कोरोना काल में इसके बचाव के प्रति जागरुक दिखाई दिये। कुछ बच्चों के मुंह से निकला, दो गज की दूरी, मास्क है जरुरी।

तीन, चार वर्ष के बच्चे मास्कर लगाकर अपनी-अपनी कक्षाओं में दूर-दूर बैठकर अपनी पढ़ाई शुरु किया। स्कूल के प्रबंधक शैलेन्द्र मिश्रा, प्रधानाचार्या अरुणा चाल्र्स, कंचन मिश्रा, शिक्षिका रितु शुक्ला, आंचल मिश्रा ने एक-एक बच्चे को सेनेटाइज कर उन्हें क्लास में बैठाने में सहयोग किया।

शासन-प्रशासन के निर्देश पर स्कूल संचालकों ने अभिभावकों से बच्चों को स्कूल भेजने की उनकी सहमति भी प्राप्त किया। यही हाल बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक विद्यालयों का भी रहा। इस बीच कुछ अभिभावकों ने कई प्रकार के भ्रम में प्रश्न किये, क्या फिर स्कूल बंद हो जाएगा, कोरोना बढ़ रहा है, क्या फिर लाकडाउन हो जाएगा लेकिन स्कूल संचालकों ने अभिभावकों को यह समझाने का भरपूर प्रयास किया कि पूरे उत्तर प्रदेश में कोरोना न्यूनतम स्तर पर है। फिर भी बचाव करने के भरसक प्रयास किये जा रहे हैं। संचालकों ने अपने छात्र-छात्राओं के अभिभावकों को यह भी आश्वस्त किया कि स्कूल में पर्याप्त कोरोना से बचाव के उपाय किये गये हैं। बच्चे जब मास्क में दूर-दूर बैठेंगे तो कभी कोई संक्रमण नहीं हो सकता। यह बात आज आए बच्चों को भी बताई गई।

Back to top button
E-Paper