खुले नालों को ढके जाने की मांग को लेकर एकजुट हुए शहरवासी

नगर निगम पहुंच, अपर नगर आयुक्त को सौंपा ज्ञापन

भास्कर समाचार सेवा
फिरोजाबाद। जनपद में खुले नालों को ढांके जाने की मांग लंबे समय से चली आ रही है। लेकिन नगर निगम प्रशासन चुप्पी साधे बैठा है। आए दिन नालों में गिरने जैसी घटनाएं और बीमारियां फैलने के बाद भी नगर निगम इन नालों को नहीं ढकवा सका है। मंगलवार को लोक नागरिक कल्याण समिति के सचिव सतेंद्र जैन सौली ने आवाज बुलंद की तो शहरवासी एकत्रित हो गए और नगर निगम में डेरा जमा लिया। वहीं समिति द्वारा अपर नगर आयुक्त को एक ज्ञापन सौंपा।
मंगलवार को शहरवासी गांधी पार्क पर एकत्रित हुए। जहां लोक नागरिक कल्याण समिति के बैनर तले नाले ढाको अभियान में शहरवासी शामिल हुए। पदयात्रा करते हुए नगर निगम पहुंचे। जहां नगर निगम प्रशासन की लापरवाही पर विरोध जताते हुए शहर भर में खुले नालों को ढकवाए जाने को लेकर आवाज बुलंद की गई। शहरवासियों ने खुले नालों से होने वाली समस्याओं को भी बताया। नाले ढाको अभियान में शहर के विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों ने भी बढ़ चढ़कर भाग लिया। सतेंद्र जैन सौली ने कहा कि खुले नाले बीमारियों को बढ़ाते हैं। डेंगू, मलेरिया जैसी भयानक बीमारियां खुले नालों की वजह से होती हैं। डॉ. मयंक भटनागर ने कहा कि खुले नालों को ढकवाया जाना चाहिए। खुले नालों से निकलने वाली गैसें काफी खतरनाक होती हैं। उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि खुले नालों में गिरकर आए दिन या तो कोई चोटिल होता है या मर जाता है। इन्हें तत्काल ढकवाया जाना चाहिए। इस दौरान गिरीश जोशी, डा. ध्रुव कुमार आचार्य, कौशल किशोर उपाध्याय, रमेश चंद्र कुशवाह, सोबरन सिंह, संत धर्मदास, उदयवीर सिंह यादव, रितिका जैन, कृष्ण मोहन चक्रवर्ती, पवन चक्रवर्ती, निशा सिंह आदि मौजूद रहे।

Back to top button