मुंबई में कातिल हुआ कोरोना, अब इतने लोग मिले+ve, इस तरह बढ़े मरीज और मौतें

मुंबई : कोरोना कैपिटल बन चुकी मुंबई के लिए मई काफी मुश्किलों भरा एवं चुनौतीपूर्ण महीना रहा है। केंद्र, राज्य सरकारें और बीएमसी प्रशासन की लाख कोशिश के बावजूद मई में काफी तेजी से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी है।


आलम यह रहा कि 26 दिन में 25,917 कोरोना के मरीज मुंबई में बढ़ गए। इस तरह शहर में प्रतिदिन करीब 1 हजार कोरोना के नए केस सामने आए हैं। 30 अप्रैल को कोरोना के 6,874 केस थे, जो 26 मई तक 25,917 बढ़ कर 32,791 हो गए। मई में कोरोना से मरने वालों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है। 30 अप्रैल तक 290 लोगों की कोरोना से मौत हुई थी। 26 मई तक 775 मृतकों की बढ़ोतरी हुई यानी प्रतिदिन 29 लोग कोरोना की वजह से मारे गए। 26 मई तक कोरोना वायरस से 1,065 लोगों की मौत हो चुकी थी।

इस तरह बढ़े मरीज और मौतें
बीएमसी द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, मुंबई में 25 अप्रैल को कोरोना मरीजों की कुल संख्या 4,870 थी। 26 अप्रैल को यह बढ़ कर 8,291 हो गई। इसके ठीक एक महीने बाद इसमें 24,500 कोरोना मरीजों की बढ़ोतरी हुई। 25 अप्रैल को पी साउथ वॉर्ड (गोरेगांव) में मरीजों की संख्या सिर्फ 95 थी, जो 25 मई को बढ़कर 717 तक पहुंच गई। यहां अब तक 57 लोग कोरोना की वजह से अपनी जान गवां चुके हैं। इसी तरह, एफ नॉर्थ के अंतर्गत माटुंगा, वडाला एवं सायन कोलीवाडा में 25 अप्रैल को कोरोना मरीजों की संख्या 359 थी, जो एक महीने बाद बढ़ कर 1,759 हो गई है। यहां कोरोना अब तक 95 लोगों की जान ले चुका है।

खतरे की घंटी है यह

नगरसेविका नेहल शाह ने कहा कि यदि यहां ध्यान नहीं दिया गया, तो स्थिति काफी खराब हो सकती है। क्योंकि धारावी की तरह वडाला में भी बड़ा स्लम है। सबसे संवेदनशील बन चुके एल वॉर्ड ( कुर्ला, साकीनाका) में एक महीने के दौरान काफी तेजी से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी है। यहां एक महीने पहले कोरोना मरीजों की संख्या 371 थी, जो अब 1,689 तक पहुंच गई है। यहां अब तक कोरोना से 154 लोगों की जान जा चुकी है।

ई वॉर्ड के अंतर्गत आने वाला भायखला, चिंचपोकली, मजगांव एरिया में 25 अप्रैल तक सिर्फ 466 कोरोना के केस थे, जो एक महीने में चार गुना बढ़ कर 1,726 तक पहुंच गए हैं। यहां 129 लोगों की मौत कोरोना की वजह से हो चुकी है। अंधेरी (पश्चिम), ओशिवरा में 25 अप्रैल को कोरोना मरीजों की संख्या 373 थी, जो एक महीने बाद 1,623 तक पहुंच गई। यहां 103 लोग अपनी जान गवां चुके हैं।

इन इलाकों ने बढ़ाई टेंशन
गोवंडी एरिया में एक महीने पहले सिर्फ 210 कोरोना के केस थे, जो अब बढ़ कर 1,150 हो गए हैं। इसी तरह एच ईस्ट वॉर्ड के अंतर्गत आने वाले बांद्रा, सांताक्रुज में एक महीने पहले 263 कोरोना के मरीज थे, जो अब बढ़ कर 1,680 हो गए हैं। जी नॉर्थ वॉर्ड के अंतर्गत आने वाले धारावी, माहिम, दादर की स्थिति सुधरने की बजाय खराब होती जा रही है। एक महीने पहले यहां 349 केस थे, जो अब बढ़ कर 2,241 तक पहुंच गए हैं, जबकि अकेले धारावी में कोरोना मरीजों की संख्या 1,621 एवं 60 लोगों की मौत कोरोना की चपेट में आने से चुकी है।

जी नॉर्थ वॉर्ड के असिस्टेंट कमिश्नर किरण दिघावकर ने कहा कि धारावी में कोरोना के मामले भले ही बढ़ रहे हों, लेकिन यहां रिकवरी रेट काफी बेहतर है। यहां स्लम एरिया, सीनियर सिटिजन की संख्या को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि प्रशासन मरीजों के ठीक होने के लिए पूरा प्रयास कर रहा है।

Back to top button
E-Paper