कोरोना संकर : 222 साल में पहली बार रद्द हुई हज यात्रा, भारतीय हज कमेटी ने रिफंड लौटाने का ऐलान किया

इमरान खान
बरेली। दुनियाभर में कोरोना वायरस बहुत तेजी से फैल चुका है सऊदी अरब के मक्का और मदीना में मुस्लिम समुदाय के ज्यादातर लोग हज करने को जाते हैं।वही भारत से डेढ़ लाख से हाजी हज पर यात्रा में शिरकत करने के लिए जाते हैं।

लेकिन इस बार भारत समेत कोरोना संक्रमण सिर्फ लोगों की सेहत पर ही भारी नहीं पड़ रहा बल्कि इसका सीधा असर हज जैसी चीज़ पर भी पड़ा है। वही देखा जाए तो दुनियाभर से मुस्लिम समुदाय के लोग हज यात्रा करने मक्का-मदीना जाते हैं वही उत्तर प्रदेश से इस बार लगभग 28,063 आज़मीन ने ही 2020 की हज यात्रा के लिये आवेदन किया था। वही भारतीय हज कमेटी ने एक परिपत्र के माध्यम से हज-2020 पर जाने के लिए चयनित लोगों से कहा है कि जिन यात्रियों ने हज पर जाने के लिये आवेदन किया था वह अपनी रक़म वापस ले सकते हैं।

उधर हज सेवा समिति के अध्यक्ष व पूर्वमंत्री हाजी अताउर्रहमान ने कहा कि (कोविड-19)चलते सऊदी हुकूमत द्वारा अभी कोई भी गाइडलाइन जारी नही की गई है हज कमेटी ऑफ इंडिया ने 2020 की हज यात्रा में स्वंय की इच्छा से अपनी यात्रा केंसिल करना चाहे वह आजमीन केंसिनलेशन फार्म भर सकते हैं जिसको हज कमेटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर फॉर्म अपलोड करा गया हैं। हज सेवा समिति के संस्थापक पम्मी खान वारसी ने बताया कि हज यात्रा के बारे में सऊदी अरब हुकूमत की तरफ से कोई फैसला नहीं लिया गया हैं। जिसकी वजह से हज यात्रियों की ट्रेनिंग व टीकाकरण शिविरों के बारे में भी कोई तैयारी नहीं हुई हैं।  

हज कमेटी ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मकसूद अहमद खान की ओर से एक परिपत्र जारी किया गया है।जिसके मुताबिक हज-2020 में कुछ सप्ताह का समय बचा है और अब तक सऊदी अरब की तरफ से आगे की स्थिति के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। ऐसे में फैसला किया गया है कि हज यात्रा पर नहीं जाने के इच्छुक लोगों को उनके द्वारा जमा की गई रकम वापस कर दी जाएगी।वही यह रकम बिना किसी कटौती के वापस की जाएगी। इस बार 2020 की हज यात्रा के लिए बरेली मण्डल से लगभग 1565 आवेदन करे गये है।और बरेली से 924 आज़मीनो  ने फॉर्म भरा हैं। यूपी से 28,063 आवेदन किये गये हैं वहीं बरेली मण्डल से 1565,जिसमें बरेली से 924, शाहजहांपुर से 224,पीलीभीत से 171,बदायूं से 246 आज़मीने हज ने ही आवेदन किया हैं।

वही कोरोना से बचाव के मद्देनजर ये सवाल भी काफी चर्चा में है कि, हर साल होने वाला हज इस बार होगा या नहीं? मौजूदा समय में जिस तरह के हालात हैं, उन्हें देखते हुए इस बार हज यात्रा हो पाना संभव नहीं है। कोरोना महामारी के कारण इस साल भारत से हज पर लोगों के जाने की संभावना बहुत कम है, हालांकि सऊदी अरब की ओर से आगे की स्थिति के बारे में जानकारी दिए जाने के बाद इस पर कोई अंतिम निर्णय होगा।

Back to top button
E-Paper