कोरोना योद्धा बने सफाईकर्मचारी क्वारंटीन सेंटर की व्यवस्थाओ के खिलाफ हुये आक्रोशित

क्वारंटीन सेंटर पर लगभग 200 नेपाली श्रमिको‌ का सहारा बनने वाले कर्मचारी खुद ही‌ है बेसहारा

सफाईकर्मचारियों का आरोप बिना संसाधन के कर रहे ड्यूटी फिर भी अधिकारी बने है हमलोगो के प्रति संवेदनहीन

सफाई के अतिरिक्त क्वारंटीन सेंटर पर कराये जाते है और भी काम श्रमिको को खाना परोसने से लेकर उनकी देखभाल हमही लोगो के भरोसे है फिर भी हमलोगो के खाने तक की कोई व्यवस्था नही है न ही हमें मास्क व सेनीटाइज़र ही उपलब्ध कराया गया है। इस भयंकर आपदा के समय सफाईकर्मचारी की अनदेखी करना मानवीय दृष्टि से भी गलत है
                     बहोरी लाल
       अध्यक्ष सफाईकर्मचारी संघ
                     मिहींपुरवा

क्वारेंटाइन सेंटर पर सिर्फ श्रमिको हेतु भोजन‌ की व्यवस्था है। कर्मचारियो को मास्क व सेनिटाइजर वितरण करने हेतु पूर्व में बीडीअो मिहींपुरवा को निर्देश दिये जा चुके है। कर्मचारियों की समस्याओं हेतु मौके पर जांच करा कर सम्बंधित के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी
        ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी
        एसडीएम मिहींपुरवा

मोतीपुर/बहराइच l कोरोना जैसी वैश्विक आपदा के समय सरकार की ओर से बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर पर श्रमिकों की पूरी देखभाल की जा रही है किंतु जिन कोरोना योद्धाओं के सहारे ये क्वारेंटाइन सेंटर चल रहे है उनकी व्यवस्थाओं के प्रति कोई ध्यान न दिये जाने से क्वारेंटाइन सेंटर पर तैनात कर्मचारी काफी आहत है। बुधवार को मिहींपुरवा कस्बे में स्थित सर्वोदय इंटर कालेज में नेपाल के श्रमिको हेतु बनाये गये क्वारंटीन सेंटर पर तैनात कर्मचारी व्यवस्थाओं की बदहाली को लेकर काफी आक्रोशित हो गए।
देश में काम कर रहे नेपाली श्रमिक जब जनपद बहराइच के रास्ते वापस नेपाल‌ लौटने लगे तो नेपाल‌ सीमा सील होने के कारण नेपाल देश ने अपने ही नागरिकों को वापस लेने से इंकार कर दिया ऐसे में भारत ने दरियादिली दिखाते हुये नेपाली श्रमिको को क्वारंटीन सेंटर में रोकने की व्यवस्था की। इसी क्रम में लगभग 200 नेपाली श्रमिक मिहींपुरवा स्थित सर्वोदय इंटर कालेज क्वारंटीन सेंटर में  रुकवाये गये। किंतु इस सेंटर पर तैनात सफाई कर्मचारियों ने अधिकारियों पर अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा है कि जिन कोरोना योद्धाओं के सम्मान में पूरा देश नतमस्तक है तहसील के अधिकारी उन्हीं कोरोना योद्धाओं के हितों की अनदेखी कर रहे है।
सफाई कर्मचारी संघ के अध्यक्ष बहोरी लाल ने कहा कि प्रत्येक सफाई कर्मचारी सुबह 6 बजे से 1 बजे तक नियमित रूप से यहां ड्यूटी करता है हमारा काम सेंटर पर स्वच्छता बनाए रखना है किंतु इसके अतिरिक्त श्रमिकों को खाना परोसना तथा श्रमिकों के अन्य देखभाल जैसे काम भी हम सफाई कर्मचारियो से ही कराये जाते है जबकि व्यवस्थाओं के नाम पर हम‌लोग अपने को ठगा महसूस कर रहे है। उन्होने कहा कि जब दोपहर 1 बजे ड्यूटी खत्म होती है और सफाई कर्मचारी भोजन करना चाहता है तो अधिकारियों की अोर से स्पष्ट रूप से भोजन तक करने को मना कर दिया गया है ऐसे में हम लोगों को भूखा रहकर ही काम करना पड़ रहा है। इसके अलावा हम लोगो को सेनिटाइजर व मास्क तक उपलब्ध नही कराया गया है। सफाई कर्मचारियों का कहना है कि हमारा अपना भी परिवार है। इस भयंकर आपदा के समय सफाईकर्मचारी की अनदेखी करना मानवीय दृष्टि से भी गलत है।
उपजिलाधिकारी मिहींपुरवा ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि क्वारेंटाइन सेंटर पर सिर्फ श्रमिको हेतु भोजन‌ की व्यवस्था है। कर्मचारियो को मास्क व सेनिटाइजर वितरण करने हेतु पूर्व में खंड विकास अधिकारी मिहींपुरवा को निर्देश दिए जा चुके हैं। सफाई कर्मचारियों कि यदि कोई समस्या है तो उसकी जांच करस कर संबंधित के खिलाफ कार्यवाही भी की जाएगी ।
इस मौके पर सफाई कर्मचारी संघ के अध्यक्ष व बहोरीला,ल महामंत्री अतहर खान, कार्यवाहक अध्यक्ष मनोज शुक्ला, सुनील कुमार, सुनील कुमार, सलारु खां, श्यामसुंदर, अमरनाथ यादव, अरविंद सिंह मोर्या, रोहित पाल, समेत काफी संख्या में सफाई कर्मचारी मौजूद रहे ।

Back to top button
E-Paper