जिलाधिकारी ने जनता दर्शन कार्यक्रम में सुनी जनशिकायतें

  • संबधित अधिकारियों को तत्काल शिकायतों का निस्तारण करने के दिये निर्देश

मैनपुरी – जनता दर्शन के दौरान जिलाधिकारी महेंद्र सिंह के सम्मुख जब सठिगवां नि. किशनपाल ने अपने शिकायती प्रार्थना पत्र के माध्यम से बताया कि गांव के प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण की पात्रता सूची में उसका नाम 38 वें नम्बर पर दर्ज है लेकिन उसे अभी तक पैसा नहीं मिला है, इस पर उन्होने कहा कि सभी ग्रामों में आवास पात्रता सूची बनी हुयी है यदि पात्रता सूची में कोई गड़बड़ी हो तभी शिकायत करें, सूची में वरीयता क्रम के आधार पर सभी शामिल पात्रों को शासन से आवंटन प्राप्त होते ही खातों में सीधे धनराशि भेजी जायेगी। उन्होने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में सीमित आवासों हेतु धनराशि प्राप्त हुयी है, शहरी क्षेत्र में बड़ी संख्या में आवासों हेतु आवंटन हुआ है, यदि शहरी क्षेत्र में कोई पात्र व्यक्ति जिसके पास अपना पक्का मकान नहीं है, लेकिन उसके पास भूमि उपलब्ध है तत्काल परियोजना अधिकारी डूडा कार्यालय में आवेदन करें, उसे प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में तत्काल लाभान्वित कराया जायेगा।
डीएम ने कहा कि यदि कोई पात्र व्यक्ति जिसे अभी तक प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण, शहरी का लाभ नहीं मिला है तत्काल अपने संबंधित खंड विकास अधिकारी से संपर्क करे, परियोजना निदेशक डीआरडीए, मुख्य विकास अधिकारी के संज्ञान में लाएं, पात्र होने पर उन्हें आवास योजना से लाभान्वित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत आवास योजना का लाभ पाने के लिए अपने ब्लाक के खण्ड विकास अधिकारी से सम्पर्क करें। उन्होने कहा कि शहरी क्षेत्र के लोग प्रधानमंत्री आवास योजना आवास योजना का लाभ पाने के लिए परियोजना अधिकारी डूडा के मो.नं. 7818882484 पर संपर्क करें।

 जिलाधिकारी ने ग्राम रोसिंगपुर नि. विपिन कुमार द्वारा राशन डीलर द्वारा राशन वितरण में की जा रही घटतौली की शिकायत को गंभीरता से लेते हुये कहा कि जनपद के अंत्योदय, पात्र गृहस्थी राशन कार्ड धारकों को ई-पाॅस मशीन के माध्यम से राशन वितरण कराया जा रहा है। 

कार्डधारक का अंगूठा लगने के बाद ही राशन वितरण हो रहा है फिर भी कुछ लोगों द्वारा राशन लेने के बाद निर्धारित मात्रा से कम खाद्यान्न उपलब्ध कराने की शिकायतें की जा रही हैं। उन्होंने राशन कार्ड धारकों से कहा है कि यदि किसी कोटा डीलर द्वारा निर्धारित मात्रा से कम खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए या निर्धारित धनराशि से अधिक की मांग की जाए तो उसकी सूचना तत्काल जिला पूर्ति अधिकारी के मो.न. 7839564602, पर जानकारी दें, पुलिस हेल्पलाईन नम्बर-112 पर शिकायत करें, संबंधित पूर्ति निरीक्षक को बताएं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक कार्ड धारक को निर्धारित मात्रा में निर्धारित मूल्य पर खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए जिला प्रशासन संकल्पित है, राशन की कालाबाजारी करने वालों, घटतौली करने वालों, ई-पाॅश मशीन की रसीद उपलब्ध न कराने वाले कोटा डीलर के विरुद्ध दण्डात्मक कार्यवाही होगी।

       डीएम ने चैराईपुर नि. शिवराम सिंह द्वारा कृषि पट्टा आवंटन में नियमों की अनदेखी कर अपात्रों को पट्टा आवंटन की शिकायत को गंभीरता से लेते हुये दूरभाष पर उप जिलाधिकारी किशनी को निर्देशित करते हुये कहा कि मौके पर जाकर स्वयं पट्टा आवंटन की स्थिति देंखें, गांव में यदि कोई भूमिहीन व्यक्ति मिले तो पट्टा आवंटन की कार्यवाही निरस्त की जाये और आवंटन करने वाले का उत्तरदायित्व निर्धारित कर विधिक कार्यवाही की जाये। उन्होने उप जिलाधिकारियों से कहा कि कृषि भूमि आवंटन में आवंटन से पूर्व मुनादी करायी जाये, सर्वप्रथम भूमिहीन व्यक्तियों को पट्टे आवंटित किये जायें, यदि कहीं पट्टा आवंटन में नियमों की अनदेखी कर अपात्रों को आवंटन किया गया तो सम्बन्धित उप जिलाधिकारी की जिम्मेदारी तय कर प्रभावी कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि यदि किसी के द्वारा अपात्र व्यक्ति को आवास योजना, पट्टा आवंटन का लाभ दिया गया हो तो उसके संबंध में भी संज्ञान में लाएं, अपात्र व्यक्ति का आवंटन निरस्त कर पात्रों को लाभान्वित किया जाएगा और अपात्रों को लाभ पहुंचाने वाले दंडित होंगे, यदि पात्र होने पर योजना का लाभ न मिले तो किसी भी कार्य दिवस में कलेक्ट्रेट आकर प्रार्थना पत्र दें, योजना का लाभ पाने के लिए बिचैलियों का सहारा न लें, किसी भी व्यक्ति को अनाधिकृत रूप से धनराशि न दे, किसी के द्वारा योजना का लाभ दिलाने के लिए धनराशि की मांग की जाएं तो तत्काल संज्ञान में लाएं।

डीएम ने संचारी रोग नियन्त्रण माह के तहत जागरूकता वाहनों को हरी झण्ड़ी दिखाकर किया रवाना
मैनपुरी – जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह ने कलेक्ट्रेट से जन-जागरूकता, संक्रामक रोगों की रोकथाम एवं बचाव हेतु संचारी रोग नियन्त्रण, दस्तक अभियान के अन्तर्गत संचारी रोग नियंत्रण माह (01 मार्च से 31 मार्च तक) के शुभारम्भ अवसर पर वाहनों, टीमों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना करते हुए कहा कि वेक्टर जनित बीमारियों में उपचार से बेहतर बचाव है, मच्छर जनित बीमारियों से बचने के लिए जन सामान्य को जागरूक करना होगा, उन्हें अपने घरों, घरों के आसपास साफ-सफाई रखने, साफ पानी एकत्र न होने देने, खुले में शौच न जाने, सप्ताह में एक बार घर के कूलर, गमलों, जल पात्रों की सफाई करने, पूरी आस्तीन के कपड़े पहनने यथासंभव मच्छरदानी का प्रयोग करने, पीने हेतु स्वच्छ पानी का इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित करना होगा ताकि लोगों को वैक्टर जनित बीमारी यथा डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से बचाया जा सके।

डीएम ने स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ अंतर्विभागीय अधिकारी आपस में समन्वय स्थापित कर आज से 31 मार्च तक आयोजित होने वाले संचारी रोग नियंत्रण माह को सफल बनाने की दिशा में काम करें, अभियान में लगे अधिकारी, कर्मचारी पूरी तन्मयता के साथ कार्य करें, सौपें गये दायित्वों का निर्वाहन में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरतें। उन्होंने कहा कि मच्छरों से फैलने वाली बीमारी डेंगू, मलेरिया बुखार आदि का प्रभाव गर्मी के मौसम में होता रहता है। उन्होने जनपदवासियों का आव्हान करते हुये कहा कि वैक्टर जनित रोगों की रोकथाम हेतु सामूहिक रूप से हम सबको रोग मुक्त करने के लिये प्रतिबद्ध होना होगा, जलजमाव न होने दें, बासी भोजन न खायें, दूषित जल का सेवन न करें, व्यक्तिगत साफ-सफाई रख अपने गांव, मोहल्ले के वातावरण को स्वच्छ रखें साथ ही समुदाय को साफ-सफाई के लिये प्रेरित करें, संचारी रोगों की रोकथाम हेतु हमें हर सम्भव प्रयास करें, जिससे हमारा परिवार, समुदाय वेक्टर जनित रोगों से मुक्त रहे।

उन्होंने कहा कि संचारी रोग कार्यक्रम को शासन की मूलमंशा के अनुरूप संचालित किया जाय, ग्रामीण, शहरी क्षेत्र में रोस्टर के अनुसार फोगिंग एवं एन्टी लार्वा का छिडकाव किया जाय ताकि संचारी रोग के कीटाणु पनप न सकें, अभियान के दौरान लार्वारोधी गतिविधियों तथा आवश्यकतानुसार फागिंग की जाये साथ ही पर्यावरणीय तथा व्यक्तिगत स्वच्छता, रोगों से बचाव के उपायों के साथा-साथ आवासीय क्षेत्रों के आस-पास छछूंदर, चूहों आदि को नियत्रिंत करने हेतु उपाय, आबादी वाले क्षेत्र से सूकर बाड़ों को दूर करने, जानवरों के पालन स्थल को स्वच्छ रखने हेतु जागरूक किया जाये।

 मुख्य चिकित्साधिकारी डा.ए.के. पाण्डेय ने बताया कि संचारी रोग एवं दस्तक नियंत्रण अभियान चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, आई.सी.डी.एस’, ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज विभाग, शिक्षा विभाग, नगर निगम,शहरी विकास, क्ृषि विभाग, पशुपालन विभाग, दिब्यांगजन कल्याण, स्वच्छ  भारत मिशन, सूचना विभागों की सहभागिता सुनिश्चित की गई है। उन्होने कहा कि अभियान के दौरान वैक्टर जनित बीमारियों से ग्रसित रोगियो के उपचार की ब्यवस्था, रोगियो के नि-शुल्क परिवहन हेतु रोगी वाहन सेवा की ब्यवस्था, वाहक नियंत्रण गतिविधियाॅ-ग्रामीण क्षेत्रों मंे वाहक के घनत्व का आकलन, लार्वारोधी गतिविधियाॅ, फाॅंिगग, जन जागरूकता अभियान चलाया जायेगा।

जन-जागरूकता रैली कलैक्ट्रेट से प्रारम्भ होकर ईसन नदी पुल होते हुये बस स्टेण्ड, क्रिश्चियन तिराहे से भांवत चैराहा, भांवत चैराहे से करहल चैराहा, करहल रोड होते हुए बडा चैराहा, संता-बसंता चैराहा, तांगा स्टैण्ड होते हुए सीएमओ कार्यालय पर समाप्त हुयी। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी ईशा प्रिया, जिला विद्यालय निरीक्षक मनोज कुमार वर्मा, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. राजीव राय, डा. संजीव राय बहादुर, डा. अनिल वर्मा, जिला मलेरिया अधिकारी एस.एन. सिंह, डीएमसी यूनीसेफ संजीव पाण्डेय, एसएमओ डा.बी.पी. सिंह, स्वास्थ्य शिक्षाधिकारी रवीन्द्र सिंह गौर, डा0 अनिल कुमार, संजय शर्मा, शैलेन्द्र सिंह राठौर, आदि उपस्थित रहे।
Back to top button
E-Paper