खीरी पहुंचे मंडलीय प्रभारी मंत्री, स्थलीय निरीक्षण कर जानी योजनाओं की जमीनी हकीकत

लखीमपुर खीरी। रविवार को अपने निर्धारित भ्रमण कार्यक्रम के अनुसार मंडलीय प्रभारी मंत्री, उप्र कृषि, कृषि शिक्षा, कृषि अनुसंधान सूर्य प्रताप शाही जनपद खीरी पहुंचे, उनके जनपद आगमन पर मरखापुर बॉर्डर पर डीएम महेंद्र बहादुर सिंह व सीडीओ अनिल कुमार सिंह ने पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया।

प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने पहले ग्राम पंचायत मरखापुर के पंचायत भवन का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। सचिव रमेश चंद्र व पंचायत सहायक दीपक कुमार से पंचायत भवन की वर्किंग जानी। सीडीओ अनिल कुमार सिंह ने बताया कि खीरी में अभिनव प्रयोग के रूप में ग्राम चौपाल दिवस आयोजित करके गांव में ही समस्याओं का निपटारा किया जा रहा। ग्राम चौपाल की पर्यवेक्षण, अनुश्रवण की अफसरों को प्रेक्षक के रूप में जिम्मेदारी दी गई। पंचायत भवन की बेहतर व्यवस्थाओं पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए उन्होंने ग्राम चौपाल दिवस की भी सराहना की। उन्होंने निर्देश दिए कि पंचायत भवन पर किसान सम्मान निधि की सूची चस्पा की जाए। गांव का भ्रमण कर प्रभारी मंत्री ने लाभार्थी कटोरी देवी, राम कुमारी व श्रीकृष्ण का प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत निर्मित आवास को देखा, लाभार्थियों से बातचीत करके मिलने वाली अन्य योजनाओं की जानकारी ली।

कबीना मंत्री ने बच्चों को चम्मच से खिलाई खीर, कराया अन्नप्राशन

गोदभराई संस्कार : गर्भवती महिलाओं को मंत्री ने दी पोषाहार किट

मंत्री ने किया परिषदीय विद्यालय एवं आंगनबाड़ी केंद्र का निरीक्षण

मंडलीय प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने मरखापुर के परिषदीय विद्यालय व आंगनबाड़ी केंद्र का निरीक्षण किया। मंत्री ने परिषदीय विद्यालय में ऑपरेशन कायाकल्प के तहत कराए कार्यों की जमीनी हकीकत जानी। उन्होंने विद्यालय में हुए कार्यों पर संतोष व्यक्त किया, निर्देश दिए कि विद्यालय के समीप पड़ी जगह में खेल मैदान विकसित किया जाए, जिसमें झूले आदि की भी व्यवस्था हो। आंगनबाड़ी केंद्र में नामांकित बच्चों ने मंत्री को पुष्प भेट किया। मंत्री ने बच्चों को दुलारा, बातचीत की। उन्होंने दो गर्भवती महिलाओं का पोषण किट देकर गोद भराई संस्कार किया व दो छह माह के बच्चों को चम्मच से खीर खिलाकर अन्नप्राशन संस्कार किया।

डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने उन्हें अभिनव पहल के तहत संचालित संपूर्ण सुपोषण अभियान की जानकारी दी। सैम श्रेणी के बच्चों को अधिकारी-कर्मचारियों को गोद दिलाकर सुपोषित बनाने का प्रयास किया जा रहा, वही सभी कुपोषित मैम श्रेणी के बच्चों को समूहों से लिंक किया, जो उनके पोषण अभिभावक की भूमिका निभा रही। मंत्री के पूछने पर डीपीओ ने बताया कि ब्लाक बेहजम में 62 सैम श्रेणी के बच्चे चिन्हित हैं। मंत्री ने मौजूद महिलाओं व पुरुषों से बातचीत करके योजनाओं के लाभ की पुष्टि की।

Back to top button