ऑपरेशन थिएटर में गई प्रसूता, कुछ देर बाद डॉक्टर ने जो बताया उसे सुन परिवार में मचा कोहराम…

औरंगाबाद. पेट दर्द से पीड़ित एक महिला का डॉक्टर ने दर्द का उपचार करने के बजाय सिजेरियन कर डाला। बाद में डॉक्टर ने परिजनों को बताया पेट में बच्चा नहीं है गैस की वजह से दर्द हो रहा था। डॉक्टर की बात सुन परिजन हक्के-बक्के रह गए। उन्होंने डॉक्टर पर बच्चा गायब करने का आरोप लगाया है। डॉक्टर अपनी बात पर अडिग है। शुक्रवार को विजयकांत मिश्रा की बेटी काजल को पेट दर्द के बाद हॉस्पिटल लाया गया था। काजल शादी-शुदा है। परिजनों के मुताबिक वह प्रेग्नेंट भी है।

डॉक्टर ने बताया पेट में बच्चा नहीं बल्कि गैस था…

इसी सिलसिले में वह 2 महीने से मायके में रहकर इलाज करा रही थी। इस दौरान उसका अल्ट्रासाउंड भी हुआ था। उसे प्रसूता मानकर इलाज किया जा रहा था। शुक्रवार की अल सुबह पेट में तेज दर्द व ब्लीडिंग शुरू होने पर आनन-फानन में परिजनों ने स्थानीय पीएचसी ले गए। लेकिन सुबह होने की वजह से डॉक्टर नहीं मिले। घबराकर परिजन महिला को पास के एक प्राइवेट हॉस्पिटल ले गए। जहां डॉक्टरों ने बताया- यह सिजेरियन का केस है। इसका यहां पर ऑपरेशन संभव नहीं है। शहर में हमारा एक क्लिनिक है। जहां प्रसव हो जाएगा। उसके बाद महिला को शहर के निजी क्लिनिक में लाया गया। ओटी से आधे घंटे के बाद डॉक्टर बाहर आए। डॉक्टर ने परिजनों को बताया पेट में बच्चा नहीं बल्कि गैस था।

दर्द और ब्लीडिंग के बाद सिजेरियन कराने ऑपरेशन थिएटर में गई प्रसूता, आधे घंटे बाद डॉक्टर ने जो बताया उसे सुन हर कोई था हक्का-बक्का

डॉ. से सीधी बात…

सवाल –प्रसूता के सिजेरियन के बाद बच्चा गायब होने की बात कही जा रही है?
जवाब – गर्भ में बच्चा था ही नहीं तो बच्चा कहां से आएगा। ये तो बेबुनियाद है।

सवाल- जब बच्चा नहीं था तो सिजेरियन क्यों किया गया?
जवाब- महिला दर्द से कराह रही थी। उसको ब्लीडिंग हो रहा था। परिजनों ने कहा- ऑपरेशन कर जान बचा दीजिए, इसलिए सिजेरियन किया।

सवाल-क्या आपको अल्ट्रासांड रिपोर्ट नहीं देखना चाहिए था सिजेरियन से पहले?

जवाब- पहले मरीज क जान बचाना जरूरी था।

सवाल- प्रसूता द्वारा आप पर बच्चा गायब करने का आरोप लगाया जा रहा है?
जवाब- यह बिल्कुल गलत और बेबुनियाद आरोप है। अल्ट्रासाउंड में भी बच्चे का जिक्र नहीं है। कहीं भी इसकी जांच कराई जा सकती है। मैं जांच के लिए तैयार हूं।

प्रसूता बोली – ऑपरेशन के बाद बच्चे को देखी थी, यह झूठ या सच ?
सिजेरियन के बाद बेड पर पड़ी प्रसूता काजल ने बताया- ऑपरेशन के बाद थोड़ी देर बाद होश में आई थी। उस समय बच्चा मेरे पास था लेकिन डॉक्टरों ने तुरंत एक इंजेक्शन लगा दिया। जिसके बाद उसे कुछ पता नहीं। जब होश आया तो पता चला बच्चा नहीं है। यह कैसे हो सकता है। जिस बच्चे को मैंने देखा, वह कैसे गायब हो सकता है।

यह मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार झूठा साबित हो रहा है। क्योंकि एक महीने पहले काजल के अल्ट्रासाउंड में गर्भ में बच्चे का जिक्र नहीं है। इस लिहाज से महिला झूठ बोल रही है। लेकिन उसके परिजन बता रहे हैं कि उसका पूरा पेट निकला हुआ था। आखिर जब गर्भ में बच्चा नहीं था तो डॉक्टर ऑपरेशन क्यों किये। दोनों के तर्क के बाद अब हर कोई इस पूरे प्रकरण पर चर्चा कर रहा है कि आखिर सच कौन और झूठ कौन।

दर्द और ब्लीडिंग के बाद सिजेरियन कराने ऑपरेशन थिएटर में गई प्रसूता, आधे घंटे बाद डॉक्टर ने जो बताया उसे सुन हर कोई था हक्का-बक्का

9 महीने तक प्रेग्नेंसी का हर ट्रीटमेंट करवाती रही महिला…

Back to top button
E-Paper