दोषी पुलिसकर्मियों पर ठोस कार्रवाही न होने से तेजी से चल रहा गोकशी का कारोबार

शहजाद अंसारी

बिजनौर। जनपद में एकाएक गौकशी की बढ़ी घटनाओं ने पुलिस के होश उडा दिए हैं पिछले तीन माह में गोकशी की करीब दो दर्जन से अधिक घटनाएं सामने आ चुकी है। गौकशों पर नकेल कसने में पुलिस बेबस नजर आई वहीं इस काले कारोबार में हिस्सेदारी के चलते कुछ भ्रष्ट पुलिसकर्मी तक लिप्त होकर गौकशों से महीना वसूलने में लगे रहे जिसके चलते गौकशी के काले कारोबार को पर लगते गए। हालांकि पुलिस ने अधिकारियों कीे फटकार के बाद जनपद में बढ़ती गोकशी पर रोक लगाने के लिए कडी कार्यवाही शुरू की है लेकिन गोकशी में संलिप्त पुलिसकर्मियों पर कोई ठोस कार्रवाही न होकर सिर्फ तबादला किए जाने से गोकशी के काले कारोबार को बढावा मिल रहा है।

    पिछले तीन माह में अचानक जनपद में गौकश सक्रिय हो गए तथा जनपद में इनका मुख्य केंद्र  पुलिस के रहमोकरम व कुछ भ्रष्ट पुलिसकर्मियों की संलिप्तता से नगीना थाना क्षेत्र इसका मुख्य केंद्र बना रहा। नगीना के तत्कालीन कोतवाल राजेश कुमार तिवारी गोकशो को संरक्षण देने के चलते मीडिया की सुर्खियों में छाए रहे और गौकश ताबड़तोड़ गौकशी की घटनाओं को अंजाम देते रहे। नगीना में लगातार गौकशी की वारदातो से पूरा जनपद दहल गया और इसकी गूंज शासन तक जा पहुंची। एसपी संजीव त्यागी ने कार्रवाही करते हुए नगीना के आधा दर्जन दोषी पुलिसकर्मियों का तबादला करने के बाद तत्कालीन चर्चित कोतवाल राजेश तिवारी को बीती 30 अप्रैल को नगीना से हटाकर अफजलगढ़ भेज दिया लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। गौकशों में तब तक यह सन्देश फैल गया था कि गौकशी में पुलिस कोई खास कार्रवाही नहीं करती पैसों के बल पर आसानी से थाने से ही जमानत मिल जाती है जो कि तत्कालीन कोतवाल राजेश तिवारी ने अपने कार्यकाल दरियादिली दिखाई थी। पुलिस की इस घूसखोरी की वजह से जनपद भर में गौवंश खासकर आवारा पशु इस समय तस्करों के निशाने पर आ गए। जनपद में तीन माह में गोकशी की करीब दो दर्जन से अधिक घटनाओं को अंजाम दिया गया। लगभग एक सप्ताह पूर्व शहर कोतवाली के गांव तीवडी के पास किसान की एक बछिया को गौकशों ने मार डाला वहीं नगीना में भी कुख्यात शातिर बदमाश वसीम चीची ने भी पुलिस को चुनौती देकर अपने तीन साथियों के साथ गौकशी की घटना को अंजाम दिया। वसीम चीची भले ही पकड़ा गया लेकिन उसके तीन साथी अभी भी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। किरतपुर में तो गोकशी की घटनाओं को अंजाम देने से माहौल बिगडने से बाल बाल बचा। गौकशों के हौसले इतने बुलन्द हैं कि अफजलगढ में गोकशी के दौरान गौकशों ने पुलिस पर फायरिंग तक की जबकि हल्दौर थाना क्षेत्र के कस्बा झालू में सभासद समेत छह लोगों ने गाय काट कर सनसनी फैला दी। हीमपुर दीपा क्षेत्र में तो आवारा पशु को मार डाला गया जिसको लेकर हिंदू संगठनों ने काफी हंगामा किया जिसके बाद हरकत में आई पुलिस ने आरोपी गिरफ्तार किया। इतना ही नही नजीबाबाद थाना क्षेत्र में तो पुलिस की दरियादिली की वजह से गोकशी के आरोपियों को थाने से छुडाने आए दलालों को चाय नाशता भी कराया गया जिससे पुलिस की काफी किरकिरी हुई है। हालांकि अधिकारियों की फटकार के बाद जनपद में बढ़ती गोकशी पर रोक लगाने के लिए पुलिस ने गुंडा एक्ट] गैंगस्टर और एनएसए की कार्यवाही शुरू की है लेकिन गोकशी में संलिप्त पुलिसकर्मियों पर कोई ठोस कार्रवाही न होकर सिर्फ तबादला हो जाना भी गोकशी के काले कारोबार को बढावा दे रहा है।

Back to top button
E-Paper