अगस्त में आ जाएगा गोरखपुर मेट्रो का डीपीआर

गोपाल त्रिपाठी
गोरखपुरः गोरखपुर मेट्रो की डिटेल प्रोजेक्टर रिपोर्ट अगस्त माह तक आ जाएगी। डीपीआर तैयार कर रही संस्था ने सर्वे का पूरा कर लिया है। तैयार रिपोर्ट को जीडीए के माध्यम से शासन को भेजा जाएगा। मेट्रो मैन श्रीधरन ने अप्रैल महीने में गोरखपुर मेट्रो का सर्वे किया था। जिसके बाद एक महीने में संशोधित डीपीआर तैयार होने तथा पांच साल के भीतर गोरखपुर में मेट्रो शुरू होने की घोषणा की थी।
राइट्स संस्था के अधिकारियों ने जीडीए को सूचित किया है कि मेट्रो के डीपीआर की औपचारिकता पूरी हो गई है। जिसकी रिपोर्ट अगले महीने दे दी जाएगी। बताया जाता है कि जीडीए ने डीपीआर में आने वाले खर्च का भुगतान भी राइट्स संस्था को कर दिया है। तैयार डीपीआर को प्रदेश सरकार को मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। इसके बाद प्रदेश सरकार केंद्र सरकार के पास डीपीआर मंजूरी के लिए भेजेगी। इस प्रक्रिया में लगभग एक साल का समय लग सकता है।
नए डीपीआर में बदल गए कई रूट
मेट्रो संचलन के रूटों में बदलाव आया है। नए डीपीआर के मुताबिक अब मेट्रो ट्रांसपोर्ट नगर के बजाए कचहरी चैराहे तक ही दौडेगी, इसके साथ ही गोरखपुर से धर्मशाला ओवरब्रिज मेट्रो जमीन के अंदर से दौडेगी। मेट्रो के दो काॅरिडोर प्रस्तावित हैं। पहला श्यामनगर से सूबा बाजार रूट 18 किलोमीटर तथा दूसरा गुलरिहा से कचहरी तक 12 किमी का होगा। मेट्रो के लिए दो यार्ड प्रस्तावित हैं।
पहला यार्ड जंगल सिकरी में तथा दूुसरा गोरखनाथ मंदिर से बरगदवा रोड स्थित पशु अस्पताल के पास प्रस्तावित है। मुख्य अभियंता संजय कुमार सिंह ने बताया कि राइट्स के अधिकारियों के अनुसार अगस्त माह के पहले पखवारे तक डीपीआर तैयार कर जीडीए को सौंप दिया जाएगा। डीपीआर राज्य से केंद्र को भेजा जाएगा। मंजूरी मिलने के बाद टेंडर की प्रक्रिया शुरू कराई जाएगी।
Back to top button
E-Paper