गोरखपुर में तबाही मचाने को आतुर राप्ती व घाघरा 

गोपाल त्रिपाठी
गोरखपुर। जनपद में राप्ती व घाघरा नदी तबाही मचाने को आतुर है। पिछले 24 घंटे के भीतर इन दोनों नदियों के जलस्तर में बेतहाशा बढोत्तरी हुई है। जिसके चलते तहसील प्रशासन ने संबंधित बाढ चैकियों को एलर्ट कर दिया है। बाढ से प्रभावित गांवों की संख्या में इलाफा हुआ है। कई गांवों बाढ के पानी से घिर गए हैं
अयोध्या से गोला, बडहलगंज व देवरिया के बरहज से होकर बहने वाली घाघरा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से उपर है। बीते मंगलवार को राप्ती के जलस्तर में बढोत्तरी आंकी गई फिर भी स्थिति सामान्य रही, मगर 24 घंटे के भीतर घाघरा व राप्ती नदी के जलस्तर में एकाएक तेजी से बढाव हुआ है। आलम यह है कि बडहलगंज क्षेत्र के जाईपार व खडेसरी में नदी रामजानकी मार्ग से मात्र तीन सौ मीटर की दूरी पर बह रही है। लखनौरा हिंगुहार खोहिया सूबेदार नगर माझा व जगदीशपुर के बाद अब खडेसरी का संपर्क मार्ग भी बाढ के पानी की चपेट में आ गया है। ग्रामीणों की सूचना पर उपजिलाधिकारी गोला ने राजस्व कर्मियों को भेज कर रिपोर्ट मांगी है और जरूरत पडने पर नाव भी लगवाने का निर्देश दे दिया है।
अब तक बाढ से हिंगुहार, लखनौरी, लखनौरा, खोहिया पट्टी, सूबेदारनगर, पौहरिया, जगदीशपुर, कोलखास की नई बस्ती, ज्ञानकोल, गोनघट, बगहा, गोरखपुरा, अजयपुरा, बल्थर, जैतपुर सहित दो दर्जन से अधिक गांव प्रभावित हैं। ग्रामीणों का कहना है कि जिस तेजी से जलस्तर में बढोत्तरी हुई है यदि यही हाल रहा तो अगले 24 घंटे में कई गांवों में पानी घुस जाएगा। उपजिलाधिकारी गोेला अरूण सिंह ने बताया कि नदियों के जलस्तर में अचानक बढोत्तरी हुई है। सभी बाढ चैकियों को एलर्ट कर दिया गया है। जरूरत पडने पर नाव लगवाने का भी आदेश दे दिया गया है।
Back to top button
E-Paper