अगर ब्लास्ट हो जाए घर में रखा सिलेंडर तो ऐसे मिलेगा 50 लाख रुपये का मुआवजा, क्लेम का प्रोसेस पढ़ें

 खबरों में अकसर ऐसी घटनाओं की जानकारी होती है जहां घर में रखा सिलेंडर फटने से दुर्घटना हो जाती है । हादसे में पीडि़त परिवार को कई बार जान और माल दोनों का नुकसान हो जाता है । सिलेंडर फटने के कुछ लाइव वीडियो भी सोशल मीडिया पर देखे जा सकते हैं । अचानक से होने वाली इस वारदात के कारण लोगों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है । लेकिन बहुत ही कम लोग ये जानते हैं कि एलपीजी से जुड़ी दुर्घटनाओं में पीडि़तों को मुआवजा भी उसी कंपनी से मिलता है जिसका वो सिलेंडर होता है । एक ग्राहक होने के नाते आपके इस अधिकार की जानकारी आपको होनी ही चाहिए ।

मिलता है इंश्‍योरेंस कवर
LPG यानी रसोई गैस कनेक्शन लेने पर पेट्रोलियम कंपनियां ग्राहक को पर्सनल एक्सीडेंट कवर उपलब्ध कराती हैं, ये 50 लाख रुपये तक का इंश्योरेंस होता है । जो कि सिलेंडर से गैस लीकेज या फिर ब्लास्ट के चलते दुर्भाग्यवश हुए हादसे की स्थिति में पीडि़त को आर्थिक मदद के तौर पर दिया जाता है । इस इंश्‍योरेंस के लिए पेट्रोलियम कंपनियों की बीमा कंपनियों के साथ पहले से ही साझेदारी रहती है । आपको बता दें हिंदुस्तान पेट्रोलियम, इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम के रसोई गैस कनेक्शन पर इस समय इंश्योरेंस ICICI लोम्बार्ड के माध्यम से है ।

किसकी होती है जिम्मेदारी ?
सिलेंडर में लीकेज या ब्लास्ट होने की स्थिति में इसकी पूरी जिम्मेदारी डीलर और कंपनी की होती है । दरअसल 16 साल पहले हुए एक सिलेंडर हादसे पर नैशनल कंज्यूमर फोरम की ओर से पीडि़त को बीमा कवर देने का आदेश दिया था । नेशनल कंज्यूमर फोरम ने अपने फैसले में स्‍पष्‍ट रुप से कहा था कि मार्केटिंग डिस्प्लिन गाइडलाइंस 2014 फॉर एलपीजी डिस्ट्रिब्यूशन के तहत तय है कि डीलर ने डिफेक्टिव सिलिंडर सप्लाई किया तो वह अपनी जिम्मेदारी शिकायती पर नहीं डाल सकता । गाइडलाइंस के अनुसार डीलर को डिलिवरी से पहले ही चेक करना चाहिए कि सिलेंडर बिल्कुल ठीक है या नहीं ।

50 लाख का मुआवजा, प्रति व्‍यक्ति 10 लाख मिलेंगे
बीमा कवर को समझने के लिए जान लें कि एलपीजी सिलेंडर की वजह से हुए हादसों में नुकसान के लिए मुआवजा देनदारी प्रति घटना 50 लाख रुपये है और प्रति व्यक्ति 10 लाख रुपये मिलते हैं । घरों में हुए हादसों में मुआवजा तब मिलता है जब हादसा गैस एजेंसी के साथ रजिस्‍टर्ड ग्राहक के घर पर हुआ हो । कमर्शियल स्‍तर पर नियम अलग हैं । ग्राहक के घर पर एलपीजी सिलेंडर की वजह से हादसे में हुए जान-माल के नुकसान के लिए पर्सनल एक्सीडेंट कवर देय है  ।

इतना मिलेगा मुआवजा
– हादसे में ग्राहक की प्रॉपर्टी/घर को नुकसान पहुंचता है तो प्रति एक्सीडेंट 2 लाख रुपये तक का इंश्योरेंस क्लेम मिलता है ।
– हादसे में मौत होने पर प्रति एक्सीडेंट प्रति व्यक्ति 6 लाख रुपये का मुआवजा मिलता है ।
– हादसे में घायल होने पर मेडिकल खर्च के लिए प्रति एक्सीडेंट 30 लाख रुपये का मुआवजा मिलता है, जो प्रति व्यक्ति 2 लाख रुपये तक होता है ।
– साथ ही प्रति व्यक्ति 25000 रुपये तक की तुरंत राहत सहायता भी है ।

कैसे मिलेगा 50 लाख का क्‍लेम ?
अब सवाल ये कि ​गैस सिलेंडर पर 50 लाख का क्लेम कैसे मिलेगा? मायएलपीजी.इन (http://mylpg.in) के मुताबिक, जब भी कोई व्यक्ति एलपीजी कनेक्शन लेता है और उस सिलेंडर से उसके घर में कोई दुर्घटना होती है तो वह व्यक्ति 50 लाख रुपये तक के बीमा का हकदार हो जाता है । दुर्घटना होने पर अधिकतम 50 लाख रुपये तक का मुआवजा मिल सकता है । एक्‍सीडेंट से पीड़ित प्रत्येक व्यक्ति को अधिकतम 10 लाख रुपये का मुआवजा दिया जा सकता है । बीमा कवर पाने के लिए ग्राहक को दुर्घटना होने की जानकारी तुरंत ही नजदीकी पुलिस स्टेशन और अपने एलपीजी वितरक को देनी होती है ।

Back to top button
E-Paper