आईएलएएम : एविएशन इंडस्ट्री में आधुनिक समय के अनुसार नए आयामों का विकास

  • आईएलएएमएविएशन मैनेजमेंट में बीबीए एवं एमबीए कोर्स के माध्यम से नौकरी के लिए प्रोफेसनल्स को तैयार कर रहे हैं 
  • ऐसा करियर जो आईएलएएम से एविएशन मैनेजमेंट में बीबीए एवं एमबीए कोर्स करने के बाद ही मिलता है
  • आईएलएएम – एविएशन इंडस्ट्री में भविष्य के लिए स्वयं को प्रोफेसनल्स की तरह तैयार करने का  सबसे अच्छा संस्थान
  • आईएलएएम में एविएशन मैनेजमेंट में बीबीए और एमबीए – आज के समय के अनुसार शिक्षण पद्धतियों को अपनाया है

नई दिल्ली.  इंस्टीट्यूट ऑफ लॉजिस्टिक्स एंड एविएशन मैनेजमेंट (आईएलएएम), जो भारत में एक प्रमुख लॉजिस्टिक्स एंड एविएशन इंस्टीट्यूट है, जिसका लक्ष्य ऑटोमोबाइल बैंकिंग, लॉजिस्टिक्स, प्रतियोगी परीक्षा और डिजाइन इंडस्ट्री और एविएशन में कौशल विकास एवं ज्ञान वर्धन में पाठ्यक्रम शुरू करके भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी प्रमुख क्षेत्रों में वृद्धि करना है। जो छात्र इन नए क्षेत्रों में करियर के अवसरों की तलाश कर रहे हैं, वे आसानी से ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यमों से आवेदन कर सकते हैं।

आईएलएएम के सीओओ श्री कनिष्क दुगल ने कहा कि- “आईएलएएम में, हमारा पूरा ध्यान आने वाले समय में इंडस्ट्री में नौकरी के लिए प्रोफेशनल्स को तैयार करना है। इन डिजिटल रूप से परिवर्तित इंडस्ट्री जैसे एविएशन, ऑटोमोबाइल, लॉजिस्टिक्स आदि में नौकरियों की मांग पिछले कुछ वर्षों में काफी बढ़ी है। हम इन क्षेत्रों में अत्याधुनिक पाठ्यक्रमों के साथ अपने छात्रों को 100% प्लेसमेंट का आश्वासन देने के लिए उत्साहित हैं। एविएशन इंडस्ट्री में शामिल प्रक्रियाओं से संबंधित व्यावहारिक प्रशिक्षण की सुविधा के लिए, हमने इंडस्ट्री में अग्रणी कंपनियों के साथ साझेदारी की है, जिसमें गुड़गांव में, आपातकालीन निकास, आग और प्राथमिक चिकित्सा प्रशिक्षण पर प्रेक्टिकल प्रशिक्षण प्रदान किया गया है। इससे हमारे छात्रों को वास्तविक दुनिया की स्थितियों का गहराई से ज्ञान प्राप्त करने में मदद मिलती है। हमारा उद्देश्य प्रेक्टिकल शिक्षाओं के साथ नवीन और बौद्धिक रूप से चुनौतीपूर्ण शिक्षा प्रदान करके लॉजिस्टिक्स एंड एविएशन उद्योग में कुशल श्रमशक्ति की कमी के कारण पैदा हुए रिक्त स्थान को भरना है।”

आईएलएएम ने हिमगिरी ज़ी यूनिवर्सिटी, देहरादून के साथ बीबीए एविएशन मैनेजमेंट और एमबीए एविएशन मैनेजमेंट जैसे पूर्णतया आवासीय पाठ्यक्रमों के लिए साझेदारी की है, जो एविएशन, यात्रा और पर्यटन उद्योग के कार्यों, व्यापार संचार और अर्थशास्त्र की मूल बातें, सुरक्षा और एविएशन इंडस्ट्री में मानव संसाधन की भूमिका एवं एविएशन संचालन को कवर करता है। पाठ्यक्रम व्यापक प्रबंधन शिक्षा और उद्योग प्रशिक्षण का एक मिश्रण है। सही प्रकार के प्रशिक्षण उपकरणों के साथ अच्छी ट्रेनिंग प्रदान करने के लिए, आईएलएएम इंडस्ट्री की अग्रणी कंपनियों के साथ काम करता है जिसमें छात्रों को नौकरी के लिए तैयार करने के लिए गुड़गांव में, आपातकालीन निकास, आग और प्राथमिक चिकित्सा प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। इसके अलावा, आईएलएएम के एविएशन और लॉजिस्टिक्स सेक्टर में 2500 से अधिक इंडस्ट्री पार्टनर हैं।

आईएलएएम प्रत्येक सेमेस्टर में विशेष पाठ्यक्रम प्रदान करता है। प्रत्येक विषय में इंडस्ट्री के विशेषज्ञों द्वारा इंडस्ट्री का दौरा, लाइव प्रोजेक्ट, फील्ड-वर्क, पोर्टफोलियो रिपोर्ट और लर्निंग वर्कशॉप शामिल हैं। पाठ्यक्रम भी उद्योग भागीदारों, समर इंटर्नशिप, प्री-प्लेसमेंट प्रशिक्षण और प्लेसमेंट सहायता के माध्यम से ट्रेनिंग प्रमाणपत्र प्रदान करता है।

आईएलएएम के छात्रों को विशेषज्ञों की एक टीम से बेहतर ज्ञान और अनुभव का लाभ मिलता है, जिनको पाठ्यक्रम की पर्याप्त जानकारी है। आईएलएएम के पास 2500 से भी अधिक इंडस्ट्री के साझेदार हैं जो अपने शिक्षार्थियों को लॉजिस्टिक्स, एविएशन, बैंकिंग, ऑटोमोबाइल, प्रतिस्पर्धी परीक्षा और डिजाइन उद्योग में सर्वोत्तम अभ्यास प्रदान करते हैं।

आईएलएएम के बारे में –

आईएलएएम 2008 के बाद से भारत में सबसे बढ़िया लॉजिस्टिक्स और एविएशन इंस्टीट्यूट है एवं  लॉजिस्टिक्स और एविएशन क्षेत्र में इसके शिक्षण प्रथाओं के लिए 18 वें और 19 वें देवांग मेहता पुरस्कार के विजेता हैं।

आईएलएएम भारत का पहला संस्थान है जिसके पास लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट प्रोग्राम में पीएचडी उपलब्ध  है और 2008 से एविएशन और लॉजिस्टिक्स सेक्टर में 4000 से अधिक छात्रों को डिग्री प्रदान की गई। संस्थान के एविएशन और लॉजिस्टिक्स सेक्टर में 2500 से अधिक इंडस्ट्री पार्टनर हैं।

आईएलएएम के देश भर में 10 विश्व स्तरीय परिसर हैं; दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा, गाजियाबाद, अहमदाबाद, देहरादून, पुणे, जयपुर, मुंबई और बैंगलोर और विश्व शिक्षा शिखर सम्मेलन, 2018 द्वारा एविएशन और लॉजिस्टिक्स के लिए सर्वश्रेष्ठ संस्थान के रूप में सम्मानित किया गया है।

Back to top button
E-Paper