देश और प्रदेश में बढ़ती अराजकता और  मंहगाई के संदर्भ में सरकार के खिलाफ सपा ने दिया धरना

बहराइच : देश एंव प्रदेश में फैली अराजकता,महिला उत्पीड़न,बलात्कार की बढ़ती घटनायें, बेरोजगारी,पेट्रोलियम पदार्थ व गैस की बढ़ती कीमत व चरम पे पहुंच गई मंहगाई आदि नागरिकों की मूल भूत समस्याओं के विरोध में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव के निर्देशन पर जिलाध्यक्ष लक्ष्मी नारायण यादव के नेतृत्व में सपा नेताओं व कार्यकर्ताओं द्वारा जिला मुख्यालय स्थित धरना स्थल पर एक विशाल धरना प्रदर्शन कार्यक्रम आयोजित किया गया जबकि इसी तरह का धरना कार्यक्रम जिले की सभी तहसील मुख्यालयों पर भी आयोजित किया गया । मुख्यालय के इस कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष यादव के अलावा जिला महा मंत्री जफर उल्ला बंटी, कोषाध्यक्ष अब्दुल मन्नान, जिला पंचायत अध्यक्ष नदीम मन्ना, पूर्व विधायक शब्बीर अहमद, पूर्व जिलाध्यक्ष राम हर्ष यादव, एम एल सी हाजी इमलाक, नगर अध्यक्ष नदीमुल हक तन्नू, पूर्व अल्पसंख्यक अध्यक्ष तौहीद अहमद, अफ़साल सानू, मोहम्मद अली, राकेश टेकड़ीवाल, निशा शर्मा, शकील मेकरानी, अनवर वारसी आदि लोग उपस्थित रहे । इस मौके पर आयोजित धरने को सम्बोधित करते हुए जिलाध्यक्ष लक्ष्मी यादव ने देश और प्रदेश की सरकार को आड़े हाथ लेते हुए इसे जनता विरोधी सरकार बताया और आरोप लगाया कि इस सरकार ने लोगों को झूठे वादों का लालीपाप दिखा कर विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश की सरकार पर कब्जा जमाया है,
वहीं महामंत्री जफर उल्ला बंटी ने दावा करते हुये कहा कि मेरे पास इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि इस सरकार ने जनता से जो वादे किये थे उनपर कतई खरी नही उतरी है और इसने देश की अर्थ व्यवस्था को चौपट कर दुनिया में भारत का नाम मिट्टी में मिला दिया है, कोषाध्यक्ष अब्दुल मन्नान ने कहा कि इस सरकार की दौर हुकूमत में सभी धर्म और जाति की महिलाएं अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रही हैं
क्योंकि इस शासन में महिला अपराधों की बाढ़ सी आ गयी है, कोई दिन ऐसा नही बीतता जब किसी अखबार में किसी महिला के बलात्कार की खबर न प्रकाशित होती हो, अनवर वारसी ने अपने ओजस्वी सम्बोधन में स्पष्ट करते हुए कहा कि ये सरकार पूंजी पतियों की सरकार है जिसने देश की जनता का खून चूस कर उन्हें कंगाल बना दिया है और 2019 के माध्यम से अब उनके हाथों में कटोरा देने का कुचक्र रच रही है, उन्होंने खास कर युवाओं को सम्बोधित करते हुऐ आवाहन किया कि आपही इस देश की आधार शिला हैं और अब वक्त आ गया है कि आप सब बेदार हो जाइये और ऐसी भ्र्ष्ट व अंधी बहरी सरकार को जड़ से उखाड़ फेंकिये और अपने अधिकारों की रक्षा कीजिये क्योंकि अब ये वह दौर आ गया है कि अधिकार मांगने से नही मिलता है बल्कि उसे छीना जा रहा है, तो आप भी आगे बड़ें और अपने अधिकार व देश की रक्षा करें ।
कार्यक्रम के अन्त में जिला प्रशासन के माध्यम से राज्यपाल को सम्बोधित एक आठ सूत्री ज्ञापन भी प्रेषित किया गया जिसमें डीजल,पेट्रोल व रसोई गैस की बढ़ी हुई कीमतों को वापस लेने, महिलाओं की सुरक्षा व्यवस्था के लिए ठोस उपाय, गिर रही कानून व्यवस्था को सुधारने, शिक्षकों पर हो रहे अत्याचार को समाप्त उन्हें न्याय दिलाने, बेरोजगारों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने, किसानों के अधिकारों की रक्षा व उनकी कर्जदारी समाप्त करने, छात्र छात्राओं व आम नागरिकों के मौलिक अधिकारों की सुरक्षा कराने आदि जैसी मांगों को पूरा कराने का अनुरोध किया गया है ।
Back to top button
E-Paper