कानपुर : आयुक्त ने अमृत सरोवर के विकास पर विशिष्ट अतिथि के साथ की समीक्षा बैठक

मण्डल के सभी जनपदों में अमृत सरोवरों के संरक्षण जीर्णोद्वार पर रामवीर तंवर देगे सहयोग।

कानपुर। आजादी के अमृत महोत्सव के रूप में भारत सरकार ने हर जनपद में 75 अमृत सरोवरों का विकास कराये जाने के निर्देश हैं। इसी क्रम में राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण एवं नगरीय निकायों में अमृत सरोंवरों के निर्माण के निर्देश है। शासन के उद्देश्यों की पूर्ति हेतु आयुक्त डॉ. राजशेखर ने मण्डल के जनपदों में अमृत सरोवरों के सौन्दर्यीकरण एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित किये के सम्बन्ध में आयुक्त शिविर कार्यालय में एक वर्चुअल बैठक कर कार्य प्रगति की समीक्षा की।

बैठक में विशिष्ट अतिथि के रूप में आमन्त्रित रामवीर तंवर, जो Pond man of India के नाम से भी जाने जाते है, के द्वारा प्रतिभाग किया गया। रामवीर तंवर विगत चार वर्षों से लगातार तालाबों के संरक्षण में काम कर रहे हैं।इनके द्वारा मण्डलायुक्त की अध्यक्षता में आहूत बैठक में नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों के तालाबों को जीर्णोद्वार, उनके संरक्षण एवं जैविक विविधिता के सम्बन्ध में सभी जिलाधिकारियों और मुख्य विकास अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक में संवाद किया। श्री तंवर मण्डल के सभी जनपदों में अमृत सरोवरों के संरक्षण और उनके जीर्णोद्वार करने में बेहतर परिणाम देने में अपना सहयोग देंगें।
उन्होंने संयुक्त विकास आयुक्त के साथ केेेडीए, नगर निगम व सीएसए के अधिकारियों के साथ कछुआ तालाब, मामा तालाब व सीएसए परिसर में स्थित ऐतिहासिक तालाब का स्थलीय निरीक्षण किया।उनके बेहतर संरक्षण और जीर्णोद्वार करने के सम्बन्ध में क्या-क्या विशेष ध्यान रखा जाए, के सम्बन्ध में जानकारी दी।बैठक में संयुक्त विकास आयुक्त ने अवगत कराया, कि मण्डल में अमृत सरोवरों हेतु 462 तालाबों के चिन्हित किये है, जिनका कुल क्षेत्रफल 723.794 एकड़ है, जिसके सापेक्ष 427 तालाबों का इस्टीमेट तैयार करा लिया गया है। जिसमें 366 तालाबों का निर्माण कार्य प्रारम्भ करा दिया गया है।

अमृत सरोवर में गांव की नालियों का गंदा पानी न जाए। अमृत सरोवर में वर्षा का जल पूर्णरूपेण आ सके, इसके लिए समुचित इनलेट बनाये जाए तथा आस-पास नीम, पीपल कटहल, जामुन, बरगद, सहजन, पाकड़, महुआ आदि के पौधे लगाये जाए तथा इन पौधों की सुरक्षा के लिए बाड़ की व्यवस्था व समुचित रख-रखाव स्वयं सहायता समूह से सुनिश्चित कराये, सरोवर के तटबन्ध पर वाकिंग पथ विकसित हो, उचित स्थान पर सीमेण्ट के बेंच स्थापित सुबह-शाम सैर करने के लिए ग्रामीण इसका प्रयोग कर सके।

अमृत सरोवरों में आवश्यक लम्बाई में एवं उचित गहराई तक सीढ़ियों के निर्माण, तटबन्ध/उचित स्थान पर तिरंगा झण्डा रोहण की व्यवस्था हो, जिससे राष्ट्रीय पर्व के अवसर पर गांव के लोग झण्डा रोहण कार्यक्रम आयोजित कर सके।मण्डलायुक्त द्वारा सभी अमृत सरोंवरों का विकास कार्य 15 अगस्त तक पूर्ण कराये जाने तथा समय-समय पर होने वाली कार्य प्रगति को भारत सरकार के एमआईस /पोर्टल पर नियमित रूप से अपडेट करने के निर्देश दिये गये।

मण्डलायुक्त ने बैठक में मण्डल के समस्त जिलाधिकारियों को अमृत सरोवरों हेतु चिन्हित तालाबों की जियो टैगिंग करने, इन तालाबों के स्थान पर ग्राउण्ड वाटर लेवल को चिन्हित करने और तालाबों में आने वाले पानी के स्त्रोतों को सूचीबद्ध करने के निर्देश, ताकि आगामी बैठक में विस्तृत रूप से चर्चा की जा सके।

बैठक मे ही रामवीर तंवर के नगर में उनके आगमन और अधिकारियों के साथ इन्ट्रेक्ट और तालाबों के संरक्षण व जीर्णोद्वार में दिये योगदान के लिए मण्डलायुक्त व जिलाधिकारी ने उनको शहर में निर्मित ताम्रपत्र भेंट स्वरूप प्रदान किया। समीक्षा बैठक में जनपद के जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, उपाध्यक्ष कानपुर विकास प्राधिकरण, नगर आयुक्त नगर निगम, संयुक्त विकास आयुक्त मण्डल एवं उप निदेशक पंचायत मण्डल साक्षात रूप में तथा मण्डल के अन्य जनपदों के जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी व जिला पंचयात राज अधिकारी एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण वर्चुअली लिंकअप रहे।

Back to top button