कानपुर : ट्रूप कंफर्ट्स लिमिटेड ने बनाया भाभा कवच बुलेट प्रूफ जैकेट

एके-47 की गोलियों भी बेअसर, सबसे हल्की जैकेट

कानपुर। आयुध निर्माणी के निगमीकरण के बाद ट्रूप कंफर्ट्स लिमिटेड में तब्दील आर्डिनेंस इक्विपमेंट फैक्टरी ने बुलेट रेजिस्टेंस जैकेट तैयार की है। भाभा कवच के नाम से तैयार ये बुलेट प्रूफ जैकेट गर्दन से लेकर जांघ तक एके-47 की गोलियों से रक्षा करेगी। मिदानी समूह के साथ संयुक्त रूप से बनाई गई ये जैकेट 360 डिग्री बुलेट प्रोटेक्शन से लैस ट्रूप की पहली जैकेट है। मंगलवार को असम पुलिस को ये जैकेट सौंपी गई। निगमीकरण से पहले ओईएफ ने 280 करोड़ के उत्पाद बनाए थे। अब 417 करोड़ के उत्पादन निर्माणी बना चुकी है। ओईएफ द्वारा विकसित भाभा कवच निर्माणी के अस्थायी कार्यकारी अधिकारी विजय कुमार चौधरी ने अपर महाप्रबंधक एम सी बालासुब्रमण्यम के साथ असम पुलिस को इसे सौंपा। असम पुलिस ने 164 भाभा कवच का ऑर्डर दिया था। इस जैकेट को बनाने के लिए भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर ने कार्बन नैनो ट्यूब टेक्नोलॉजी का ट्रांसफर ऑफ़ टेक्नोलॉजी के तहत मिदानी को सहयोग किया।

अस्थायी कार्यकारी अधिकारी विजय कुमार चौधरी ने बताया कि भाभा कवच बीआईएस लेवल वी के साथ 360 डिग्री सामने पीछे और साइड से गोलियों से बचाएगा। यह गर्दन, कंधे और कमर के नीचे तक का 9 एमएम की गोलियों से बचाता है। काउंटर इनसर्जेंसी में जवानों के लिए बेहद उपयोगी है। भाभा कवच में दो मैगजीन, दो ग्रेनेड पॉकेट और दो आर्मर पैनल हैं। जिनको जैकेट से निकाला जा सकता है। बाहर के कैरियर को धोया भी जा सकता है। 9.6 किलो का ये कवच कम से कम पांच साल चलेगा।

बोरियम कार्बाइड प्लेट से गोली का नोजल टूट जाता है

भाभा कवच एके 47 के 6 शॉट सामने, 6 पीछे और 3-3 शॉट साइड से रोकने में सक्षम है। यानी ये दुनिया की सबसे खतरनाक एके-47 की 18 गोलियां महज 10 मीटर की दूरी से भी झेलने में सक्षम है। केवल पांच मीटर से दागी गईं रिवाल्वर और पिस्टल की गोलियां भी इस जैकेट को भेद नहीं सकेंगी। इतना ही नहीं भाभा कवच सेल्फ लोडेड राइफल्स, इंसास, हैंड स्टील कोर, माइल्ड स्टील कोर और लेड कोर जैसे घातक हथियारों से भी बचाने में मुफीद है। इसमे बोरियम कार्बाइड सेरेमिक प्लेट्स, जो दुनिया का तीसरा सबसे कठोर तत्व है। जैकेट के अंदर छिपीं बोरियम कार्बाइड की प्लेटों से टकराते ही गोलियों के आगे का नोजल टूट जाता है।

Back to top button