नगीना के पूर्व कोतवाल तिवारी व दरोगा विनोद की घूसखोरी का नया कारनामा उजागर

शहजाद अंसारी
बिजनौर। गौ तस्करों पर नगीना के पूर्व कोतवाल राजेश कुमार तिवारी व उनके चहीते दरोगा द्वारा दरियादिली दिखाकर थाने से जमानत देकर मामले को रफा दफा करने के नाम पर एक लाख बीस हजार रुपये की मोटी रकम लेने का मामलें में उस समय नया मोड़ आ गया जब एसपी की सख्ती के बाद नगीना पुलिस को आरोपियों पर गैंगस्टर की कार्रवाही करनी पडी। पुलिस द्वारा रुपए हडपने से नाराज आरोपी व उनके परिजन पूर्व कोतवाल व दरोगा को कोसते फिर रहे है।
मालूम हो कि नगीना थाना क्षेत्र में बीते दिनों लगातार चल ही गौ तस्करी व गौकशी के काले कारोबार और उसमें संलिप्त पूर्व कोतवाल राजेश कुमार तिवारी व अन्य पुलिसकर्मियों के कारनामों की पोल खुलने लगी है एसपी संजीव त्यागी द्वारा गौकशी व गौतस्करों के विरुद्ध चलाये गए अभियान के तहत गौतस्करों व गौकशों को चिन्हित कर रासुका, गैंगस्टर व गुंडा एक्ट की कार्रवाही अमल में लाई जा रही है।

कोतवाल संजय धीर द्वारा गुलजार, शहजाद, नजाकत व वसीम पर गैंगस्टर की कार्रवाही अमल में लाई गई है। बीती 03 अप्रैल 20 को दरोगा विनोद कुमार ने टीम के साथ इन आरोपियों को नौरंगी चक गांव से गौवंश का कटान करने जाते समय पुलिस ने पकड़ा था जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अपराध संख्या 135/20 धारा पशु क्रूरता व गोवध निवारण अधिनियम के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया था लेकिन रुपयों के लालच में तत्कालीन घूसखोर कोतवाल राजेश कुमार तिवारी व दरोगा विनोद कुमार ने एक लाख बीस हजार रुपए लेकर गौतस्करों पर अपनी दरियादिली दिखाते हुए थाने से ही जमानत दे दी थी लेकिन पूरे मामले में पूर्व कोतवाल व दरोगा विनोद कुमार के कारनामें की पोल तब खुल गई जब आरोपियों व उनके परिजनों ने अब पुलिस द्वारा गैंगस्टर की कार्रवाही करने पर दरोगा विनोद कुमार व उनकी टीम द्वारा इस खेल में एक लाख बीस हजार की मोटी रकम एक दलाल की मदद से बुंदकी रोड पर आम के बाग में डरा धमकाकर रुपए ऐंठने की बात चैक चोराहों व पुलिस अधिकारियों को बताकर घूसखोर पूर्व कोतवाल राजेश तिवारी व दरोगा विनोद कुमार को कोसना शुरू कर दिया।

गौकशी के इस काले कारोबार में गौकशों की मदद के नाम पर मोटी रकम ऐंठने के मामले पहले भी चर्चा में आते रहे लेकिन अब यह नया मामला आने से दरोगा विनोद कुमार व उनकी टीम के कारनामें से पुलिस की एक बार फिर किरकिरी होने शुरु हो गई है ।माना जा रहा है कि पिछले कई माह से चले आ रहे इस काले कारोबार की परत दर परत खुलने की नौबत तब से सामने आने लगी हैं जब से तेजतर्रार एसपी संजीव त्यागी ने चर्चित कोतवाल राजेश कुमारी तिवारी को नगीना से हटाकर अफजलगढ भेजा है।

इस संबन्ध में सीओ अर्चना सिंह ने दैनिक भास्कर संवाददाता शहजाद अंसारी को बताया कि पुलिस पर लगे इन आरोपो की गहनता से जांच कराई जाएगी जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कडी कार्रवाही अमल में लाई जाएगी। उधर गौ तस्करों से रुपए वसूलने का नया मांमला उजागर होने से गौ तस्करों से मेलजोल व मदद करने वाले पुलिसकर्मियों में भी खलबली मची हुई है।

Back to top button
E-Paper