देश मे΄ महामारी की तरह फैल रही लीवर की बीमारी

लीवर दानकर बेटे ने पिता को दिया नया जीवन

लखनऊ। देश में महामारी की तरह तेजी से बढ़ रही लीवर की बीमारियों के बीच 18 वर्षीय बेटे ने लीवर की बीमारी से ग्रसित अपने पिता की जान बचाने के लिये अपने स्वस्थ्य लीवर का एक हिस्सा दान कर दिया। जब उसने लीवर दान करने का निर्णय लिया तो उस वक्त बालिग होने में कुछ समय बाकी था और बाकी इस समय का इंतजार करने के बाद उसके लीवर का सफल ट्रांसप्लांट किया गया। फोर्टिस हेल्थकेयर में हुई इस सर्जरी के बाद लीवर ट्रांसप्लांट विभाग के निदेशक व प्रमुख डॉ विवेक विज ने बताया कि 46 वर्षीय विजय कुमार के लीवर में अधिक शराब पीने की वजह से लाइलाज बीमारी हो गई थी।

लीवर ट्रांसप्लांट सर्जरी होने से डेढ़ साल पहले तक उन्हें लगातार बुखार रहता था। इससे रोगी को पीलिया हो गया। उन्होंने हर्बल दवाओं से इसका इलाज कराया। रोगी की हालत ठीक नहीं हुई और उसे गैस्ट्रोइन्टेस्टाइनल ब्लीडिंग भी होने लगी। रोगी को इस गंभीर हालत में फोर्टिस लाया गया था और इसके इलाज के लिए लीवर ट्रांसप्लांट की जरूरत थी।

 क्या कहते है ट्रांसप्लांट विभाग के निदेशक

डॉ. विवेक ने कहा लीवर शरीर का सबसे बड़ा भीतरी अंग होता है और यह बहुत महत्वपूर्ण भी है। यह अनेक भूमिका निभाता है जिनमें ब्लड से टोक्सिक मैटेरियल हटाना, शरीर को आवश्यक एनर्जी देना, सेक्स हार्मोन को रेगुलेट करना तथा शरीर को कोलेस्ट्रोल, विटामिन ओर मिनरल्स की सप्लाई करना शामिल है। लीवर की बीमारी होने पर ये सभी काम ठप पड़ जाते हैं। ऐसे में मरीज को बचाने के लिए लीवर ट्रांसप्लांट करना ही एक मात्र विकल्प रह जाता है।

पहले लीवर ट्रांसप्लांट के मामले में लोगों में जागरूकता बहुत कम थी और इस प्रकार की सर्जरी बहुत दुर्लभ थीं। लेकिन अब यह बहुत आम और स्वीकार्य सर्जरी बन गई है। मरीज लीवर ट्रांसप्लांट के लिए देश से बाहर जाते थे लेकिन अब मेडिकल टूरिज्म के तहत बाहर के मरीज भारत आते हंै और देश में इस सर्जरी के लिए शोध एवं विकास के कार्य मेँ डॉक्टर जुटे हुए हैं।

Back to top button
E-Paper