लॉकडाउन 4 : हरियाणा के पूर्व विधायक शराब तस्करी में गिरफ्तार, चंडीगढ़ के एमएलए हॉस्टल में पुलिस ने मारा छापा

चंडीगढ़ । पानीपत पुलिस ने बुधवार की रात चंडीगढ़ के सेक्टर तीन स्थित एमएलए हॉस्टल में छापा मारकर हरियाणा के पूर्व विधायक को शराब तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया है।

पानीपत क्राइम ब्रांच टीम ने पिछले दिनों ट्रांसपोर्ट कोऑपरेटिव सोसायटी के हाउस नंबर 1017 में शराब तस्करी के मामले में छापा मारा था। इस दौरान क्राइम ब्रांच ने 90 लाख रुपये नगद, पिस्टल और लग्जरी गाड़ी बरामद की थी। इसी केस के एक आरोपी ने पूछताछ में सतविंदर राणा का नाम लिया था। सतविंद्र राणा बुधवार को चंडीगढ़ में ही थे। यहां पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात करने के बाद वह रात को यहीं पर रूक गए। इसी दौरान पानीपत क्राइम ब्रांच के इन्स्पेक्टर प्रवीण कुमार के नेतृत्व में पुलिस की एक टीम ने रात करीब 12 बजे सेक्टर-तीन थाना प्रभारी जसपाल सिंह के संपर्क किया।

पानीपत पुलिस की टीम ने चंडीगढ़ पुलिस को सूचित करके पूर्व विधायक को हिरासत में ले लिया। कागजी कार्रवाई पूरी करने के बाद पुलिस टीम सतविंदर राणा को लेकर रवाना हो गई। सतविंदर राणा तीन बार विधायक रह चुके हैं। पूर्व एमएलए सतविंदर राणा को पहले चेक बाउंस के मामले में कोर्ट में उपस्थित न होने के कारण भगोड़ा घोषित किया जा चुका है। पंचकूला की जिला अदालत ने 30 अक्टूबर 2018 को चंडीगढ़ निवासी संदीप सेठी को दिए गए 40 लाख रुपये के चार चेक बाउंस होने पर भगोड़ा घोषित किया था। बहरहाल पानीपत पुलिस मामले की जांच कर रही है।

कौन हैं सतविंदर राणा
सतविंदर राणा हरियाणा की राजनीति में सक्रिय चेहरा रहा है। सतविंदर राणा राजौंद से दो बार एमएलए रह चुके हैं और 2019 का विधानसभा चुनाव उन्होंने कलायत विधानसभा क्षेत्र से जेजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में राणा को 37 हजार वोट मिले थे। राजौंद हल्का खत्म होने के बाद राणा ने अपनी राजनीति कलायत से करनी शुरू की और इन्हें जननायक जनता पार्टी का राजपूत चेहरा भी माना जाता है। 2019 के विधानसभा चुनावों से पहले कलायत से टिकट की गारंटी पर ही सतविंदर राणा जेजेपी में शामिल हुए थे।

Back to top button
E-Paper