मराठा आंदोलन : दूसरे दिन कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन, एक प्रदर्शनकारी की मौत; देखे VIDEO

मुंबई : आरक्षण को लेकर मराठा संगठनों द्वारा विरोध के दूसरे दिन आज कई जगहों से हिंसा और तोड़फोड़ की खबरें मिल रही हैं. मराठा क्रांति मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने कई स्थानों पर जबरदस्ती दुकानें बंद करवाईं तो कुछ स्थानों पर बसों में आग लगा दी. हालांकि, संगठन के प्रतिनिधियों का दावा है कि वे शांतिपूर्वक विरोध कर रहे हैं. इस बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने हड़ताल को समाप्त करने के लिए मराठा संगठनों के प्रतिनिधियों से बातचीत करने की अपील की है.

हिंसा और तोड़फोड़ की सबसे ज्यादा खबरें ठाणे से मिली हैं. यहां बंद समर्थकों ने जबरदस्ती दुकानें बंद करवाईं और बसों में आग लगा दी. कुछ स्थानों पर पुलिस के साथ हल्की झड़प भी हुई. मुंबई में भी बंद समर्थकों ने दुकानें बंद कराई, लेकिन यहां से खास अशांति की खबर अक तक नहीं है. इधर औरंगाबाद के देवगांव रंगरी में मंगलवार को आत्महत्या का प्रयास करने वाले जगन्नाथ सोनवने की आज मौत हो गई. सोनवने ने मंगलवार को जहर खा लिया था.

मराठा क्रांति मोर्चा ने हालांकि दावा किया है कि उन्होंने सड़कों पर यातायात को बाधित नहीं किया है. प्रदर्शनकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि सरकारी कामकाज में कोई बाधा नहीं होनी चाहिए.

इस बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने बुधवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस से आरक्षण की मांग को लेकर जारी हड़ताल को समाप्त करने के लिए मराठा संगठनों के प्रतिनिधियों से बातचीत करने की अपील की. पवार ने अफसोस जताते हुए कहा कि समुदाय की चिंताओं को गंभीरता से लेने के बजाय मुख्यमंत्री और कुछ मंत्रियों ने उकसावे वाला बयान दिया है. उन्होंने कहा कि स्थिति को यथाशीघ्र नियंत्रण में लाया जाना चाहिए. मुख्यमंत्री को आरक्षण की मांग कर रहे लोगों के प्रतिनिधियों से बात कर गतिरोध को खत्म करने की प्रक्रिया यथाशीघ्र शुरू करनी चाहिए.

इधर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) आज मराठा समुदाय के सरकारी नौकरियों और शिक्षा में आरक्षण की मांग के समर्थन में सामने आयी. पार्टी ने कहा कि अपने आरक्षण की मांग को लेकर मराठा समुदायों द्वारा आहूत मुंबई बंद शांतिपूर्ण ढंग से होना चाहिए. आरक्षण की मांग को लेकर मराठा क्रांति मोर्चा ने आज मुंबई बंद का आह्वान किया है.

30 फीसदी हैं मराठा समुदाय…

राजनीतिक तौर पर प्रभावशाली मराठा समुदाय के लिए आरक्षण का मामला बेहद विवादास्पद मुद्दा है. राज्य की आबादी में करीब 30 फीसदी मराठा हैं. इसके पहले समुदाय के नेता अपनी मांगों को लेकर विभिन्न जिलों में रैलियां निकाल चुके हैं. पिछले साल मुंबई में मराठा क्रांति मोर्चा ने एक बड़ी रैली का आयोजन किया था.

पुलिस कांस्टेबल की मौत..

कल नदी में कूदकर जान देने वाले एक मराठा प्रदर्शनकारी के अंतिम संस्कार स्थल के पास तैनात एक पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई. पुलिस का कहना है कि उसकी मौत के कारणों का अभी पता नहीं है. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. उनके हाथों और पैरों पर चोट के निशान हैं. उसी स्थल पर तैनात अन्य पुलिसकर्मी पथराव में जख्मी हो गए.

गौरतलब है कि 27 वर्षीय काकासाहब शिंदे औरंगाबाद में एक पुल से गोदावरी नदी में कूद गया था. उसे नदी से निकालकर अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

शिवसेना सांसद से धक्कामुक्की…

शिवसेना सांसद चंद्रकांत खैरे को प्रदर्शनकारियों के गुस्से का सामना करना पड़ा जब वह शिंदे के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए औरंगाबाद के कायगांव गए थे.

पुलिस ने बताया कि भीड़ ने उनके साथ धक्का – मुक्की की. उन्हें स्थान छोड़ना पड़ा. पुलिस ने बताया कि सांसद की गाड़ी पर भी पथराव हुआ था.

लाठी चार्ज और आंसू गैस के गोले दागे…

औरंगाबाद की पुलिस अधीक्षक आरती सिंह ने बताया कि भीड़ को संभालने मौजूद पुलिस कर्मियों ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे. एक अधिकारी ने बताया कि जलना के घनसांगवी थाने पर प्रदर्शनकारियों के पथराव में आठ पुलिसकर्मी जख्मी हो गए

उन्होंने बताया कि कायगांव में प्रदर्शनकारियों ने दमकल की एक गाड़ी को भी आग लगा दी. प्रदर्शनकारियों ने लातूर जिले के निलांगा तहसील में हैदराबाद-लातूर बस पर भी पथराव किया.

आरक्षण पर कोर्ट करेगी फैसला…

सांगली में राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने मराठा आरक्षण को लेकर कहा कि राज्य सरकार ने जो भी उसके बस में था किया. अब इस मामले पर अदालत फैसला करेगी. मंत्री ने कहा कि कुछ ‘पेड’लोग मराठा आंदोलन में घुस गए हैं.

Back to top button
E-Paper