राज्य मंत्री सुरेश पासी पर महाराणा प्रताप के अपमान का आरोप

जगदीशपुर-गौरीगंज राजमार्ग पर बनाये गये गेट की इबारत को लेकर सियासत तेज।
मीडिया में चर्चा में आते ही उतारा बोर्ड, कहा महाराणा आदरणीय हैं।

अमेठी। महाराणा प्रताप के शौर्य और साहस की गाथा दुनिया जानती है। लेकिन उनके जीवन से जुड़ा एक वाक्या आज सियासत की चर्चा में है। अमेठी जिले के जगदीशपुर में यूपी सरकार के राज्य मंत्री सुरेश पासी द्वारा सम्राट महाराणा प्रताप द्वार में लिखवाया गया कि “समय इतना बलवान होता है कि एक राजा को भी घास की रोटी खिला सकता है”। इस लाइन ने राजनीतिक भूचाल खड़ा कर दिया है। गेट लगते ही सोशल मीडिया पर लोगों ने आपत्ति दर्ज करवाना शुरू किया। करणी सेना के अमेठी जिलाध्यक्ष विष्णु प्रताप सिंह ने एक वक्तव्य जारी कर कहा कि राज्य मंत्री को शायद इतिहास की जानकारी नहीं है।

महाराणा प्रताप ने घास की रोटियां अपना और देश का स्वाभिमान बचाने के लिए खाई न कि उनको समय की मजबूरी में खाना पड़ा। वे चाहते तो समर्पण कर राजभोग करते। उन्होंने कहा कि यदि गेट की इबारत बदली नहीं जाती तो इसके लिए मंत्री के खिलाफ जन जागरण अभियान चलाया जाएगा और गेट की इबारत के संबंध में माननीय मुख्यमंत्री से शिकायत की जाएगी। मीडिया की खबरों में आते ही मंत्री के लोगों ने बोर्ड उतार लिया और कहा कि महाराणा प्रताप हम सब के आदरणीय हैं। जल्दी ही दूसरा बोर्ड लगवाया जाएगा।

Back to top button
E-Paper