मिशन 2019 : युवाओं की तलाश में मायावती

योगेश श्रीवास्तव

लखनऊ। दलित वोट बैंक के सहारे राजनीति करने वाली बहुजन समाज पार्टी मुखिया मायावती अपनी पार्टी का कायाकल्प करने में जुट गयी हैं। आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर मायावती ने बसपा को युवाओं की पार्टी बनाने की कवायद शुरू कर दी हैं। बसपा मुखिया ने अपने सभी मंडल और जिला कोर्डिनेटरों से पार्टी संगठन में 50 फीसदी पद युवाओं के लिए आरक्षित करने को कहा हैं। बसपा सुप्रीमों केवल पार्टी संगठन में ही नहीं भाईचारा कमेटियों में ाी यह आरक्षण लागू करना चाहती हैं।

दरअसल, मायावती की नजर यूपी के करीब 65 फीसदी उन वोटरों पर है, जो 35 वर्ष की आयु से कम हैं। पार्टी से जुडने वाले युवा कार्यकर्ता डा. अंबेडकर मंच के बैनर तले बैठके करेंगे और उनका प्रदर्शन देखते हुए उन्हे पार्टी में उचित पदों पर जि मेदारी दी जायेगी।

गौरतलब है कि बसपा में युवा चेहरों की खासी कमी हैं। जबकि अन्य विपक्षी दलों में सशक्त युवा नेतृत्व मौजूद हैं। समाजवादी पार्टी में अखिलेश यादव, कांग्रेस में राहुल गांधी तो भाजपा में योगी आदित्यनाथ पार्टी, युवा नेता है और प्रदेश के युवाओं को अपनी पाले में लाने का दमखम रखते हैं लेकिन बसपा के पास ऐसा कोई भी युवा चेहरा नहीं है जो प्रदेश के नवयुवक को अपने पाले में ला सकें।

इसके पीछे की वजह भी साफ है, वर्ष 2006 में बसपा संस्थापक कांशीराम की मृत्यु के बाद अध्यक्ष बनी मायावती ने पार्टी में कभी भी दूसरी पंक्ति के नेताओं को पनपने नहीं दिया। बसपा में हमेशा ही युवाओं को पूरी तरह से हाशिये पर रखा गया और बड़े नेता ही चेहरा बनते रहे। इसके अलावा बसपा में कभी भी युवाओं के लिए कोई आनुषागिंक संगठन नहीं रहा। इससे इतर अन्य सभी विपक्षी दलों के युवा संगठन अपनी मजबूत भूमिका निभा रहे है। बसपा में बहुजन वालियंटर फोर्स बना तो लेकिन केवल मायावती की रैलियों के लिए भीड़ इक्ठ्ठा करने तक ही सीमित रहा।

बीते साल मायावती ने अपने भाई आनंद कुमार को इसी मंशा से उपाध्यक्ष बनाया था कि वह युवाओं को पार्टी के साथ जोडेंगे लेकिन वह कुछ खास काम नहीं कर पाये, इस वजह से मायावती ने दो माह पूर्व उन्हे उपाध्यक्ष पद से हटा दिया था। इसके बाद पार्टी के रणनीतिकारों से चर्चा के बाद मायावती ने तेज-तर्रार युवा नेताओं की तलाश शुरू कर दी है और अब अपने मंडल और जिला कोआर्डिनेटरों को युवाओं को ज्यादा से ज्यादा पार्टी से जोडऩे को कहा हैं।

Back to top button
E-Paper