उस्मान कॉलोनी में लगे मोबाइल टावर और अवैध चक्की की बढ़ सकती है मुश्किल

जीडीए की टीम ने टावर को किया सील 

भास्कर संवाददाता
गाजियाबाद। डासना के उस्मान कॉलोनी में घनी आबादी के बीचों बीच बिना परमिशन के लगाए जा रहे मोबाइल टावर और आटा चक्की को लेकर स्थानीय लोगों में आक्रोश जबरदस्त पनप रहा है। स्थानीय लोगों द्वारा पूर्व में जीडीए के गेट पर जाकर जीडीए को स्पष्ट तौर पर अल्टीमेटम दिया था कि अगर जल्द ही मोबाइल टावर और चक्की को नहीं हटाया गया तो लोग अर्धनग्न होकर जीडीए के गेट पर धरना प्रदर्शन करेंगे। जीडीए के अधिकारियों ने स्थानीय लोगों की शिकायतों का संज्ञान लेकर उस्मान कॉलोनी पहुंचकर मोबाइल टावर को सील करने का कार्य किया तो वही जल्द ही चक्की को भी सील करने की बात कर रहे हैं। हालांकि जीडीए के अधिकारियों द्वारा चक्की को सील न करने को लेकर स्थानीय लोगों ने एक बार फिर जिलाधिकारी को एक शिकायती पत्र दिया है। गौरतलब है कि डासना के उस्मान कॉलोनी में बिना मानचित्र और बिना परमिशन के लगाए जा रहे इंडस मोबाइल टावर को लेकर स्थानीय लोगों में आक्रोश पनपते हुए के जिला प्रशासन के खिलाफ धरना प्रदर्शन भी किया और मोबाइल टावर से होने वाली परेशानियों को ध्यान में रखते हुए लोगों का आरोप है कि घनी आबादी में मोबाइल टावर के लगने से मोबाइल टावर से निकलने वाली किरण से बच्चों और बुजुर्गों में बीमारी फैलने की आशंका है। जिसको लेकर जिलाधिकारी और जीडीए के अधिकारियों को पत्र दिया गया था। जिसका संज्ञान लेकर जीडीए के अधिकारियों द्वारा मोबाइल टावर को सील करने का कार्य किया गया। वहीं चक्की को अब तक सील नहीं किया गया है । क्योंकि चक्की के सील ना होने से घनी आबादी में चक्की से निकलने वाले डस्ट से भी बीमारी फैलने की आशंका को बल मिल रहा है। अगर जल्द ही इस समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ तो स्थानीय लोग जिलाधकारी के कार्यालय के सामने जाकर धरना प्रदर्शन करने पर मजबूर हो जाएंगे। ग्राम पंचायत अधिकारी अमित पांडे ने जानकारी देते हुए बताया कि बिना परमिशन के चक्की और मोबाइल टावर नहीं लगाया जा सकता। जिसको लेकर स्थानीय लोगों की शिकायतें प्राप्त हुई हैं। इस मामले में मोबाइल टावर और चक्की लगाने वाले के खिलाफ जांच पड़ताल कर उचित कार्रवाई की जाएगी। 
जीडीए के ओएसडी सुशील चौबे ने जानकारी देते हुए बताया कि बिना मानचित्र और बिना परमिशन के अवैध रूप से किसी भी अवैध निर्माण और कार्य के खिलाफ शासन के निर्देश अनुसार कानूनी कार्रवाई भी की जाती है। जिसको लेकर मौके पर टीम पहुंची और मोबाइल टावर को सील करने का कार्य किया गया। अगर मोबाइल टावर की सील खोलने का प्रयास किया गया तो मुकदमा भी दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही चक्की के मामले को लेकर भी जल्द ही चक्की लगाने वाले को एक नोटिस जारी किया जाएगा। अगर नोटिस का जवाब सही नहीं दिया जाता है तो उचित कार्यवाही भी की जाएगी।
एसडीएम सदर विनय कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला प्रशासन की अनुमति के बिना कोई भी कार्य नहीं किया जा सकता। अगर किसी ने भी जिला प्रशासन की अनुमति के बिना कोई भी ऐसा कार्य किया जिससे कि क्षेत्र का माहौल खराब होता है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई तय होगी।
एसीपी रवि प्रकाश सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि क्षेत्र का किसी भी तरह का कोई भी माहौल खराब करने का प्रयास किया जाता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी और अवैध कार्य करने वाले के खिलाफ शासन प्रशासन को भी पत्र लिखा जाएगा। हालांकि कानून को हाथ में लेने वाले किसी भी शख्स को बख्शा नहीं जाएगा। और अवैध कार्य करने वाले सख्स के खिलाफ मिल रही शिकायत का संज्ञान लेकर इसमें भी उचित कार्रवाई की जाएगी। 
एसडीओ मनोज कुमार ने जानकारी देते हुए बताया की घनी आबादी में लगे आटा चक्की व मोबाइल टावर के बिजली के कनेक्शन को लेकर भी मामले की जांच पड़ताल कराई जाएगी। अगर मामला सही पाया जाता है तो बिजली के कनेक्शन को काटने का कार्य भी किया जाएगा। साथ ही बिजली विभाग को बरगलाने या झूठे कागजात प्रस्तुत करने के मामले में मुकदमा भी दर्ज कराया जा सकता है। इसको लेकर भी बिजली विभाग की टीम मौके पर जाकर जांच पड़ताल कर पूरे मामले की जांच पड़ताल करेगी।

Back to top button