Techno-expert और कलाकार प्रभात कुमार का नया हिंदी गीत

Techno-expert और कलाकार प्रभात कुमार का नया हिंदी गीत

प्रभात कुमार की संगीत यात्रा की शुरुआत उनकी कविता की पुस्तक “मेरी मधुशाला” से हुई थी। उनकी पहली पुस्तक 2012 में दिल्ली स्थित एक प्रकाशक द्वारा प्रकाशित की गई थी जो आज भी नए प्रिंट में Flipkart और Amazon पर उपलब्ध है। Nectars of Life को मेरी मधुशाला के उनके अंग्रेजी संस्करण के रूप में जाना जाता है। यह भी Amazon और Flipkart पर उपलब्ध है। उनकी पुस्तक ‘मेरी मधुशाला’ पहले से ही प्रभावकारी गीतों का एक रत्न है जिसेका मूल डॉ. हरिवंश राय बच्चन द्वारा लिखित ‘मधुशाला’ में है और मन्ना डे द्वारा गाया जा चूका है। रूमी की कवितावों का स्वाद भी आप उनकी रचनात्मकता में भी महसूस कर सकते हैं । हालाँकि, उनकी अन्य कविताएँ उनके अपने दर्शन का संग्रह है और उनका मानना है कि इन अवधारणाओं के कार्यान्वयन से दुनिया रहने के लिए एक बेहतर जगह बन सकता है। आज, प्रभात कुमार ने अपनी नई गान “प्यार जगाने आया हूं” को रिलीज़ कियेहैं  जिसे “मेरी मधुशाला” YouTube  चैनल  पर  देखा जा सकता हैं।

प्रभात कुमार हमेशा से ‘मेरी मधुशाला’ काव्य को अपनी आवाज़ में गाकर संगीत के भांति प्रस्तुत करना चाहते थे और उन्हें जनवरी 2020 में अपना वह स्वप्न पूरा करने का मौका भी मिला। ‘मेरी मधुशाला’ आज google, youtubeऔर अन्य search इंजन पर बहुतायत में ढूंढा जाता है और इससे जुडी ब्लॉग, किताबें, कवितायेँ, संगीत इत्यादि सब एक क्लिक पर उपलब्ध है। पर हां, इनका ये संगीत का सफर इतना आसान नहीं रहा है, इनको कई बार म्यूजिक सीखना पड़ा है और तब जाकर इन्होने – “मेरी मधुशाला” और “कोई बस आहें भरता है” जैसा लोकप्रिय संगीत को हजारों लोगों तक उजागर कर सके हैं। उनकी इन दिनों की काव्य गीत की श्रृंखलाएं – “इश्क़ है सज़ा”, “कैंपस नियुक्ति की कहानी” और “मैं सूरज हूँ आसमान का” अनोखी एलबम्स हैं जो कोई न कोई कहानी कहती है। उन्हों ने अब तक कई म्यूजिकल कम्पनीज के साथ काम की है जिनमे Suspicious Records और JSplash Studios खाश है। आप उनके सभी रचनाओं से रूपरू होने के लिए उनके ब्लॉग – www.meri-madhushala.in को रजिस्टर करें एवं उनके म्यूजिकल चैनल – मेरी मधुशाला (YouTube) को भी सब्सक्राइब कर सकते हैं।

सिर्फ इतना ही नहीं, प्रभात कुमार इन दिनों स्वास्थ्य को लेकर काफ़ी जगरूख हैं और अबतक वे 4 हाफ-मैराथन पूरा कर चुके हैं। वे आगे भी 10k रन और हाफ-मैराथन का रेस करते रहेंगे। ऐसा करते रहने के लिए उन्होंने बैंगलोर के एक “Running Genes” का सहारा लिया है जिसके तहत वे अपने मासिक और सालाना गोल्स पूरा करते हैं। यहाँ उन्हें स्वस्थ रहे के लिए और शारीरिक एवं मानशिक रूप मजबूत बने रहे के लिए भी कई क्रियाएं सिखाई जाती हैं। वर्ष 2019 में उनहोंने OXFAM trailwalkerचैलेंज के तहत 50 km की दुरी एक साथ में तय की थी और तब से वे फुल मैराथन को भी संपन्न करने का मन बनाये हुए हैं।

उनकी लेखनी में प्रेमरस, प्रेरणा और देशभक्ति प्रधान होता है और उनकी लेखनी डॉ हरिवंश राय ‘बच्चन’ की कविताओं से प्रभावित है और ठीक उसी प्रकार उनका व्यावसायिक जीवन और उन्नति सर अल्बर्ट आइंस्टीन की सोच और विचारधारा से प्रभावित है। वे अपनी संगीतकला को और भी प्रभावकारी बनाने में सर्वथा प्रयत्नशील हैं और वो बॉलीवुड, डिवोशनल, रैप, हिप हॉप, डांस संगीत में अपने हुनर को निखारते हुए नित्य नविन संगीत विद्या सिख रहे हैं। म्यूजिकल रचनात्मक कार्य के अतिरिक्त भी उन्होंने कई साइंटिफिक पेपर्स अपने कालेज के अध्ययन के दौरान लिखा था जो राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित भी हुई थी। सन 2017 में दिसंबर में इनका फिनटेक विषय पर एक पेपर इंडियन जर्नल ऑफ़ कंप्यूटर साइंस में एक नोबल टॉपिक  के रूप में प्रकाशित हुआ था। इस प्रकार ये विज्ञान और कला को बराबर महत्ता देते रहे हैं।

इस शनिवार, श्री विनोद मंडलोई द्वारा लिखित और प्रभात कुमार द्वारा गाया गया गाना उनके YouTube चैनल “मेरी मधुशाला” पर रिलीज किया जाना है। इस गीत में इतिहास और पौराणिक कथाओं और उद्देश्यों से बहुत अधिक तत्व हैं जो मानवाधिकार पर प्रकाश डालते हैं। हमें सिखने-सिखाने के लिए बहुत सी बातें हैं जो कि हमें नरम दिल होने के लिए भी प्रेरित करती हैं। वे सभी जो या तो शोषित हैं या क्रूरता के शिकार हैं, उनके लिए यह एक प्यार भरा पैगाम है। यह गरीब और उपेक्षित वर्ग के लिए भी प्यार और परवाह के बारे में भी बात करता है। गाने का नाम है “प्यार जगाने आया हूं” और यह है “मेरी मधुशाला” चैनल पर आज से उपलब्ध है।

Back to top button
E-Paper