अब बलिया में पेड़ से गिरने लगे मरे हुए चमगादड़, वन विभाग ने नमूने बरेली भेजे

बलिया । कोरोना की दहशत के बीच मनियर ब्लॉक के विशुनपुर गांव में चमगादड़ों के मरने की खबर से सनसनी फैल गई। जानकारी के बाद मौके पर पहुंची स्वास्थ्य व वन विभाग की जांच टीमों ने नमूने एकत्र कर जांच के लिए बरेली भेज दिया है।

बताया जा रहा है कि विशुनपुर गांव के साधन सहकारी समिति के करीब बगीचे में पेड़ों पर अक्सर चमगादड़ देखे जाते रहे हैं। गांव के लोगों की मानें तो सोमवार से ही लगातार चमगादड़ पेड़ों से मरे हुए गिर रहे हैं। कुत्ते मृत चमगादड़ों को नोच रहे थे। ऐसे में जबकि कोरोना की महामारी को फैलने में चमगादड़ों की भूमिका को भी नकारा नहीं जा रहा है, ग्रामीणों में इसे लेकर आशंका घर कर गई।

लोगों ने चमगादड़ों की मौत की सूचना पास के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को दी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग, वन विभाग व पशु चिकित्साधिकारियों की टीम सोमवार शाम मौके पर पहुंची। टीम मृत चमगादड़ों का सैम्पल लेकर वापस चली गई।

इस बाबत डीएफओ श्रद्धा यादव ने गुरुवार को बताया कि ग्रामीणों की सूचना पर मौके की जांच की गई। क्षेत्रीय वनाधिकारी ने मौके पर चार चमगादड़ पाए। हालांकि दस से बीस तक चमगादड़ मरे हो सकते हैं। बहरहाल, उनके सैम्पल इकट्ठा कर आईवीआरआई (इंडियन वेटरनरी रिसर्च इंस्चियूट) बरेली भेजा है। चमगादड़ न मरें, इसके लिए जो भी किया जा सकता है, वह किया जा रहा है। चूंकि कोरोना का माहौल है, इसलिए इसे तत्काल बरेली भेज दिया गया है।

डीएफओ ने कहा कि प्रथम दृष्टया गर्मी के कारण तापमान बढ़ने से चमगादड़ों के मरने की आशंका है। गांव वालों ने भी बताया है कि कम आयु के चमगादड़ गर्मी नहीं झेल सके और हीट स्ट्रोक से मरने लगे। आईवीआरआई बरेली से दो-तीन दिनों में जांच की रिपोर्ट आने पर ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

Back to top button
E-Paper