अब दिल खोल कर कहो Kurkure, “theda hai par mera hai”

नई दिल्ली: क्या आपने कभी पेप्सी कंपनी के स्नैक्स ‘कुरकुरे’ में प्लास्टिक होने की बात सुनी या कही है? अगर सुनी है तो उसे अनसुना कर दीजिए और भूल कर भी ऐसी बात फेसबुक या ट्विटर पर न लिखिएगा. पेप्सी कंपनी ने इस बारे में अपने तेवर कड़े कर लिए हैं और अब ऐसी पोस्ट करने वाले लोगों को कानूनी नोटिस भेजे जा रहे हैं.

समाचार पत्र  के अनुसार भारत में सैकड़ों सोशल मीडिया यूजर के एकाउंट डिटेल दिल्ली हाई कोर्ट में कानूनी कार्रवाई के लिए दिए गए हैं. दरअसल पेप्सी कंपनी ने फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब और इंस्टाग्राम जैसे सोशल साइट्स के खिलाफ एक सिविल सूट फाइल किया है. पेप्सिको इंडिया ने सोशल मीडिया कंपनियों से 2.1 करोड़ रुपये का हर्जाना मांगा है. कंपनी का कहना है कि इन साइट्स ने कुरकुरे ब्रांड के खिलाफ अपमानजनक और गुमराह करने वाली सामग्री को फैलाने की इजाजत दी.

झूठे दावे 
हाई कोर्ट के आदेश के बाद फेसबुक और ट्विटर ने ऐसे पोस्ट करने वाले यूजर्स की पहचान करनी शुरू कर दी और उन्हें मैसेज भेजकर बताया कि उनके एकाउंट की डिटेल सिविल सूट के लिए दिल्ली हाई कोर्ट में जमा कराई गई है. पेप्सी कंपनी का कहना है कि सोशल मीडिया में पोस्ट और वीडिया को जरिए ऐसे झूठे दावे किए गए हैं कि स्नैक्स में ज्वलनशील प्लास्टिक है और लोगों के लिए हानिकारक है.

शुरू हुई कार्रवाई 
यूट्यूब ने कहा है कि उसे जितने यूआरएल मिले हैं, उन्हें डिस्एबल कर दिया गया है, हालांकि फेसबुक और ट्विटर ने ऐसी सामग्री हटाने की पुष्टि नहीं की है. पेप्सिको ने ऐसी पोस्ट का पूरा विवरण लिंक के साथ अदालत में जमा किया है. इसमें फेसबुक के 3412 लिंक और 20,244 पोस्ट हैं. इसके अलावा ट्विटर के 562 लिंक, यूट्यूब के 242 लिंक और इंस्टाग्राम के 6 लिंक शामिल हैं.

Back to top button
E-Paper