एक तिहाई घरेलू उड़ानें शुरू होंगी, सप्ताह में कुल 100 उड़ानें रहेंगी

रूट्स को सात हिस्सों में बांटकर न्यूनतम और अधिकतम किराया निर्धारित किया गयातय किराया अगस्त तक लागू रहेगा, दिल्ली-मुम्बई का किराया 3,500 से 10,000 तक होगा

नई दिल्ली । नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सबकी सहमति से हम 25 मई से सुरक्षा उपायों के तहत घरेलू उड़ानों का संचालन शुरू करेंगे। गर्मियों के शेड्यूल-2020 के हिसाब से शुरुआत में एक तिहाई घरेलू उड़ानें शुरू होंगी। सप्ताह में कुल उड़ानों की संख्या 100 तक सीमित रहेंगी।

हरदीप पुरी ने कहा कि उड़ान के संचालन के लिए रूट्स को सात हिस्सों में बांटा गया है, जिसके तहत 40 मिनट से कम समय लेने वाले रूट्स, 40 से 60 मिनट का समय लेने वाले रूट्स, 60-90 मिनट का समय लेने वाले रूट्स, 90 से 120 मिनट का समय लेने वाले रूट्स, 2 से 2.50 घंटे का समय लेने वाले रूट्स, 2.50 से 3 घंटे का समय लेने वाले रूट्स और 3 से 3.5 घंटे का समय लेने वाले रूट्स शामिल हैं। पुरी ने कहा कि हमने न्यूनतम और अधिकतम किराया निर्धारित किया है। दिल्ली-मुंबई के मामले में 90-120 मिनट के बीच की यात्रा के लिए न्यूनतम किराया 3500 रुपये और अधिकतम किराया 10,000 रुपये होगा। यह 3 महीने तक यानी 24 अगस्त 2020 तक लागू रहेगा।

मंत्री पुरी ने कहा कि पहले विमानन कंपनियां न्यूनतम और अधिकतम किराया की जानकारी अपनी वेबसाइट पर डाल देती थीं लेकिन अब हमने रेल किरायों को ध्यान में रखते हुए किराया तय करने के बारे में सोचा है, जो वास्तविक है। हमने वास्तविक किराया फिक्स किया है ताकि किसी कंपनी को व्यापार में मुश्किल का सामना न करना पड़े। यह आदेश 24 अगस्त को 23:59 बजे तक लागू रहेगा। मेट्रो से मेट्रो शहरों और मेट्रो से नॉन मेट्रो शहरों के लिए अलग नियम होंगे। मेट्रो से मेट्रो शहरों के लिए एक तिहाई उड़ानों को इजाजत मिली है। मेट्रो से मेट्रो शहरों में दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई जैसे शहर शामिल हैं।

हरदीप पुरी ने मिडिल सीट खाली रखने के सवाल पर कहा कि उड़ान के दौरान बीच की सीट खाली नहीं जाएगी। हर उड़ान के बाद फ्लाइट को सेनेटाइज किया जायेगा। यात्रियों और क्रू मेम्बरों के लिए हर सावधानी बरती जाएगी। अगर मिडिल सीट खाली छोड़ दें तो इसका भार यात्रियों पर जाएगा। ‘वंदे भारत मिशन’ के बारे में हरदीप पुरी ने कहा कि 20 हजार भारतीय नागरिकों को देश में वापस लाया गया है और आने वाले दिनों में यह संख्या और बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि हमने अपने नागरिकों को लाने के लिए आउटगोइंग विमान का उपयोग किया है, जो आमतौर पर विदेश में रहने वाले हैं और उन्हें यात्रा करने की आवश्यकता है।

अन्तरराष्ट्रीय उड़ानों के बारे में पुरी ने कहा कि घरेलू उड़ानों को शुरू करने के अनुभव के आधार पर हमें कुछ प्रक्रियाओं को बदलना पड़ सकता है, तभी हम अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के बारे में सोचेंगे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 25 मार्च के बाद से कार्गो विमान के माध्यम से पांच लाख किलोमीटर तक का सफर तय किया गया। इस दौरान देश के अलग-अलग हिस्सों में कोरोना वायरस से जुड़ी सामग्री को राज्यों तक पहुंचाया गया। विदेश से भी मेडिकल सामान देश में लाया गया है।

विमान यात्रा के लिए जारी गाइडलाइन:

यात्रियों को उड़ान के निर्धारित प्रस्थान के समय से दो घंटे पहले हवाई अड्डे पर पहुंचना होगा। केवल वेब चेक-इन करने वालों को टर्मिनल भवन में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। केवल एक चेक-इन बैग को अनुमति दी जाएगी और एयरलाइंस उड़ानों में कोई भोजन सेवाएं प्रदान नहीं की जाएगी। उड़ान के लिए बोर्डिंग प्रस्थान से 60 मिनट पहले शुरू होगी और प्रस्थान से 20 मिनट पहले बोर्डिंग गेट बंद हो जाएगा।

इस दौरान सभी यात्रियों को फेस मास्क और सेनिटाइजर की बोतल साथ रखनी होगी। पानी की बोतलें गैलरी एरिया या सीटों पर दी जाएंगी। एक सेल्फ डिक्लेरेशन या आरोग्य सेतु ऐप की मदद से यात्रियों के कोरोना के लक्षणों से मुक्त होने का पता लगाया जाएगा। आरोग्य सेतु ऐप पर लाल स्टेट्स वाले यात्रियों को यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

Back to top button
E-Paper