कोरोना में खान-पान पर दें ध्यान, जानिए क्या खाएं और क्या नहीं


डायटीशियन डॉ0 शीनू संजीव

प्रवीण पाण्डेय/वर्षा

मैनपुरी – कोरोना वायरस रोग (कोविड – 19) का प्रकोप दुनिया भर में बढ़ा रहा है। जैसे-जैसे स्कूल और चाइल्ड केअर केंद्र बंद होते हैं, बहुत से अभिभावक अपने आप को घर के अधिकांश बच्चों की देखभाल, घर के काम काज और अन्य प्रतिस्पर्धात्मक जिम्मेदारियों से जोड़कर रख रहे हैं। ‘आज खाने में क्या है‘ या ‘‘रात के खाने के लिए क्या है?‘‘यह हर रोज की चुनौती है।

सुविधाजनक, सस्ती और स्वस्थ खान पान के विकल्प हैं। यहां आपके बच्चों को एक विविध, पौष्टिक आहार खिलाने में मदद करने के पांच तरीके हैं, जो स्वस्थ खाने की आदतों का निर्माण करते हुए, उनके विकास और विकास का समर्थन करेंगे।
क्या खाएं और कैसे खाएं

फल और सब्जी का सेवन जारी रखें
ताजी सब्जियों की खरीद, घर में स्टॉक करना और खाना बनाना लॉकडाउन में चुनौतीपूर्ण हो सकता है, खासकर जब माता-पिता को घर के बाहर यात्रा को सीमित करने की सलाह दी जाती है। लेकिन जहां भी संभव हो, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि बच्चों को अभी भी अपने आहार में फल और सब्जियां खूब मिल रही हैं। जहां संभव हो फलों और सब्जियों को जमे हुए किया जा सकता है और उनके अधिकांश पोषक तत्वों और स्वाद को बरकरार रखेगा। सूप, स्टॉज या अन्य व्यंजनों के बड़े बैचों को पकाने के लिए ताजी सब्जियों का उपयोग करने से वे लंबे समय तक बने रहेंगे और कुछ दिनों के लिए भोजन के विकल्प प्रदान करेंगे। ये भी जहां संभव हो और फिर जल्दी से गरम किया जा सकता है।

ताजा उपज उपलब्ध न होने पर स्वस्थ सूखे या डिब्बाबंद विकल्पों में स्वैप करें

ताजा उपज लगभग हमेशा सबसे अच्छा विकल्प होता है, लेकिन जब यह उपलब्ध नहीं होता है तो बहुत सारे स्वस्थ विकल्प होते हैं जो स्टोर करना और तैयार करना आसान होता है।
डिब्बाबंद बीन्स और छोले, जो पोषक तत्वों की प्रचुरता प्रदान करते हैं, महीनों या वर्षों तक संग्रहीत किए जा सकते हैं, और कई तरीकों से भोजन में शामिल किया जा सकता है।सूखे बीन्स, दाल और अनाज जैसे दाल, विभाजित मटर, चावल, कूसकूस या क्विनोआ जैसे सूखे माल भी पौष्टिक, लंबे समय तक चलने वाले विकल्प हैं जो स्वादिष्ट, सस्ती भी हैं। दूध या पानी से पकाए हुए जई जई एक उत्कृष्ट नाश्ते के विकल्प के रूप में काम कर सकते हैं, और दही, कटा हुआ फल या किशमिश के साथ मसालेदार हो सकते हैं।

स्वस्थ नाश्ते का भंडार बनाएँ
बच्चों को अक्सर दिन में एक या दो स्नैक खाने की जरूरत होती है ताकि वे उन्हें चालू रख सकें। बच्चों को मिठाई या नमकीन स्नैक्स देने के बजाय, नट्स, चीज, योगर्ट, कटे या सूखे मेवे, उबले अंडे, या अन्य स्थानीय रूप से उपलब्ध स्वस्थ विकल्पों जैसे स्वस्थ विकल्पों का विकल्प चुनें। ये खाद्य पदार्थ पौष्टिक, अधिक भरने वाले होते हैं, और जीवन भर चलने वाले स्वस्थ भोजन की आदतों को बनाने में मदद करते हैं।
अत्यधिक संसाधित खाद्य पदार्थों को सीमित करें

ताजा उपज का उपयोग करना हमेशा संभव नहीं हो सकता है, अपनी खरीदारी की टोकरी में अत्यधिक संसाधित खाद्य पदार्थों की मात्रा को सीमित करने का प्रयास करें। रेडी-टू-ईट भोजन, पैकेज्ड स्नैक्स और डेसर्ट अक्सर संतृप्त वसा, शर्करा और नमक में उच्च होते हैं। यदि आप प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ खरीदते हैं, तो लेबल को देखें और इन पदार्थों में से कम वाले स्वस्थ विकल्पों को चुनने का प्रयास करें। कोशिश करें कि आप शक्कर वाले पेय से बचें और इसके बजाय ढेर सारा पानी पिएं। नींबू, नींबू, खीरे के स्लाइस या जामुन जैसे फलों या सब्जियों को पानी में मिलाने से स्वाद में अतिरिक्त इजाफा होता है।

खाना बनाना और खाना अपने परिवार की दिनचर्या का एक मजेदार और सार्थक हिस्सा है
खाना बनाना और एक साथ खाना स्वस्थ दिनचर्या बनाने, परिवार के बंधन को मजबूत करने और मजे करने का एक शानदार तरीका है। भोजन की तैयारी में आप अपने बच्चों को शामिल कर सकते हैं – छोटे बच्चे खाने की चीजों को धोने या छाँटने में मदद कर सकते हैं जबकि बड़े बच्चे अधिक जटिल कार्य कर सकते हैं और टेबल सेट करने में मदद कर सकते हैं।

 इस तरह की संरचनाएं और दिनचर्या इन तनावपूर्ण स्थितियों में बच्चों के लिए चिंता को कम करने में मदद कर सकती हैं। खान पान को जितना समय अनुकूल स्वस्थ्य, ताजा और पौष्टिक बनाया जा सके उसी का ध्यान रखें। यही सलाह देती हैं डॉ0डायटीशियन शीनू संजीव
Back to top button
E-Paper