पीलीभीत : छह माह बाद कब्र से निकाला गया तीन महीने के बालक का शव

मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में पीएम को भेजा गया क्षत विक्षत शव
भास्कर ब्यूरो

पूरनपुर-पीलीभीत। एक युवक ने संपत्ति के लिए उसके नवजात बेटे की हत्या का आरोप ससुराल पक्ष के लोगों पर लगाया। इस मामले में पहले ही कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में छह महीने पहले दफनाया गया बालक का शव कब्र से बाहर निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। पुलिस फोर्स के साथ इस दौरान भारी भीड़ मौजूद रही।
 

माधोटांडा के संजय यादव की शादी गांव की ही साधना के साथ दो साल पहले हुई थी। लगभग नौ महीने पहले संजय यादव की पत्नी ने बेटे को जन्म दिया था। आरोप है ससुराल पक्ष के लोग संजय पर संपत्ति उनके नाम कराने का दबाव बना रहे थे। 13 नवंबर 2021 को ससुराल पक्ष के महताब सिंह, राजेश, सर्वेश, रामबेटी व दो अन्य लोग संजय में जबरन घुस आए और मारपीट करते हुए संजय यादव के तीन माह के पुत्र को जबरन उठा ले गए। इसके बाद तीन मार्च 2022 को मासूम की मौत हो गई थी। इसकी जानकारी जब संजय और उसकी पत्नी साधना को लगी तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। वह अपने बेटे को देखने ससुराल पहुंचे। दंपति के पहुंचने से पहले ही ससुराल पक्ष के लोगों ने नवजात शिशु को दफना दिया।

कोर्ट के आदेश पर माधोटांडा थाने में पुलिस ने छह लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। संजय यादव नेम हकीकत जानने के लिए मासूम के शव का पोस्टमार्टम कराने की मांग की। लगभग छह माह बाद रविवार को डीएम के आदेश पर अतिरिक्त मजिस्ट्रेट रामस्वरूप के साथ थाना माधोटांडा पुलिस की मौजूदगी में मासूम के शव को कब्र से निकाला गया। महीनों बाद कब्र से निकला बालक का शव क्षत-विक्षत हो गया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बालक का शव कब्र से निकाले जाने की जानकारी लगती है काफी संख्या में लोग मौके पर पहुंच गए।

Back to top button