कांग्रेस ने खोला अपना ट्रम्प कार्ड- बताया 2019 लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का नाम…

कांग्रेस यह भी कहा कि राहुल गांधी ही पार्टी का चेहरा होंगे और वह ही पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार भी होंगे।

कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्लूसी) की विस्तारित बैठक में राहुल गांधी को गठबंधन पर अंतिम फैसला करने के लिए अधिकृत किया गया है। बैठक में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया। गठबंधन पर अंतिम फैसला लेने के लिए राहुल गांधी को अधिकृत किए जाने का फैसला इस धारणा के बीच लिया गया है कि सोनिया गांधी की मौजूदा और संभावित सहयोगियों के बीच व्यापक स्वीकार्यता है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कार्यसमिति की बैठक के बाद कहा कि, “अगले आम चुनाव में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए को हराने के लिए विपक्षी दल एक विशाल गठबंधन बनाने की तैयारी कर रहे हैं।” उन्होंने कहा, “सर्वोच्च निर्णय लेने वाली पार्टी की इकाई सीडब्लूसी ने राहुल गांधी को चुनाव से पहले व चुनाव के बाद गठबंधन के साथ-साथ अगर जरूरत पड़ी तो इस मकसद के लिए एक छोटी समिति बनाने के लिए भी अधिकृत कर दिया है।”

सीडब्ल्यूसी की बैठक में कांग्रेस को फिर से सत्ता पर काबिज कराने के लिए गठबंधन के मुद्दे पर विस्तार से चर्चा की गई। 2014 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा था और उसके बाद से पार्टी बीजेपी के हाथों कई महत्वपूर्ण राज्य गंवा चुकी है।

वह कांग्रेस के हितों से समझौता किए बिना राष्ट्रीय हितों के साथ गठबंधन पर बातचीत करेंगे। सुरजेवाला ने बताया कि कांग्रेस लोकतंत्र को नुकसान पहुंचाने वाली आधिपत्यवादी और दमन की ताकतों से लड़ रही है। उन्होंने कहा कि यह दूसरे स्वतंत्रता संग्राम की तरह है।

उन्होंने कहा, “इस विचारधारा से लड़ा जाना चाहिए और भारत को प्रगति, शांतिपूर्ण सहअस्तित्व और सद्भाव के रास्ते पर वापस लाया जाना चाहिए।” उन्होंने कहा कि पार्टी युवाओं, किसानों, दलितों, अल्पसंख्यकों, महिलाओं और अन्य कमजोर वर्गों पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करेगी। गठबंधनों में हमेशा लेने और देने की बात का जिक्र करते हैं उन्होंने कहा, “गठबंधन अड़ियल रुख पर कभी नहीं किया जा सकता और इस पर कांग्रेस अध्यक्ष फैसला करेंगे।”

Back to top button
E-Paper