लोक सभा चुनाव लड़ने की बात पर सहवाग ने दिया बड़ा बयान, कहा मेरा फैसला अटल !

वीरेंद्र सहवाग का लोकसभा चुनाव लड़ने से इंकार, कहा- 5 साल बाद भी अफवाहों में कुछ नहीं बदला

आगामी लोक सभा चुनाव के पहले सियासी माहौल गरमा गया है. सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है. हाल में ही सपा-बासप गठबंधन के बाद यूपी में भाजपा के लिए एक बड़ी परेशानियो का दौर शुरू हो गया है. इस बीच कांग्रेस ने भी तीन राज्यों में जीत के बाद अब यूपी में आगमी लोक सभा में जीत हासिल करने के लिए अपनी बहन प्रियंका पर दांव लगाया है. इस बीच एक बड़ी खबर ने सियासत को गरमा दिया है.  बताते चले  पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव लड़ने से इंकार किया है. पिछले कुछ दिनों से रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा था कि वीरेंद्र सहवाग बीजेपी की तरफ से हरियाणा की रोहतक सीट पर उम्मीदवार बनाए जा सकते हैं. लेकिन सोशल मीडिया पर अपनी बात रखते हुए सहवाग ने इस तरह की खबरों को खारिज किया.

सहवाग ने ट्वीट करते हुए लिखा

कुछ चीजें कभी नहीं बदलती हैं, जैसे की इलेक्शन की अफवाहें. उन्होंने कहा, ”इन अफवाहों में कुछ भी नहीं बदला है. 2014 में भी इसी तरह की बातें की जा रही थी और 5 साल बाद 2019 में भी ऐसा ही लिखा जा रहा है. मेरी उस समय भी चुनाव लड़ने में रुचि नहीं थी और अब भी नहीं है. बात खत्म” इसके साथ ही वीरेंद्र सहवाग ने उन खुद के चुनाव लड़ने की खबरों की तस्वीरों को भी शेयर किया.

अंग्रेजी अखबार  की रिपोर्ट में दावा किया गया था कि बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता को सहवाग को चुनाव लड़ने के लिए मनाने की जिम्मेदारी दी गई है. उस रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी ने रोहतक से सहवाग को टिकट देने का पूरा मन बना लिया था, बस एलान के लिए सहवाग की हामी का इंतजार था. साथ ही बताया गया था कि जिस नेता को यह जिम्मेदारी मिली है वह दिल्ली एनसीआर की राजनीति में काफी एक्टिव रहते हैं.

बता दें कि अभी सिर्फ एक पूर्व क्रिकेटर ही लोकसभा सासंद हैं. कीर्ति आजाद बिहार के दरभंगा से 2014 में तीसरी बार बीजेपी के सासंद बने थे. सहवाग के अलावा एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित का नाम भी बीजेपी के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए सामने आ रहा था. पर माधुरी दीक्षित ने भी राजनीति में आने के किसी प्लान से इंकार किया.

Back to top button
E-Paper