क्या आपभी खाते है इन चीजो में लिपटा हुआ खाना, तो पढ़ ले ये खबर

नई दिल्‍ली: सफर में खाना लेकर जाना हो या समोसे या पकौड़े खाना हो, आपमें से कई लोग खाने को अखबारों में लपेटकर रखते हैं और बाद में उसका सेवन करते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि खाने की चीजों को अखबार में लपेट कर रखना सही है या गलत? वास्तव में अखबार में खाना लपेटकर रखना आपकी सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक हो सकता है।

लोगों को इससे जुड़ी इतनी कम जानकारी है कि कुछ दुकानदार भी खाने पीने से जुड़ी चीजों को अखबार में लपेटकर देते हैं। यहां तक कि कुछ लोग छोले भठूरे खाते समय भठूरे का तेल पोछने के लिए अखबार का इस्तेमाल करते हैं। आइये जानते हैं ऐसा करना क्यों सेहत के लिए हानिकारक है?​ 

अखबार की स्याही से होता है खतरा: 
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अखबार की स्याही बनाने में डाई आइसोब्यूटाइल फटालेट, डाइएन आईसोब्यूटाइलेट जैसे केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा स्याही के रंग को और गाढ़ा बनाने के लिए उसमें कई अन्य केमिकल मिलाये जाते हैं। कुल मिलाकर आप यह जान लें कि अखबार की छपाई में कई केमिकल के मिश्रण का इस्तेमाल होता है।

केमिकल से नुकसान:
जब आप इन अखबार का इस्तेमाल खाने को लपेटने के लिए करते हैं तो उस दौरान अखबार में मौजूद केमिकल आपके खाने से चिपक जाता है। खासतौर पर जब आप गर्म समोसे, पकौड़े या भठूरे जैसी चीजों को अखबार में लपेटते हैं तो गर्मी की वजह से इन केमिकल में मौजूद बायोएक्टिव तत्व सक्रिय हो जाते हैं और शरीर में जाकर बहुत ही नुकसान पहुचाते हैं।

कुछ शोधों में ऐसा पाया गया है कि अखबार की स्याही में मौजूद केमिकल शरीर के अंदर अधिक मात्रा में जाने से आपको कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी भी हो सकती है। भारत में खाद्य पदार्थों की निगरानी रखने वाली संस्था FSSAI ने भी अखबारों के इस्तेमाल पर दिशा निर्देश जारी किये हैं और लोगों से ऐसा ना करने की अपील की है।

क्या करें : अगली बार जब भी आपको खाना पैक करना हो या कुछ खाना हो तो अखबार की जगह एल्युमीनियम फॉयल पेपर का इस्तेमाल करिये। ये पेपर खासतौर पर खाने को पैक करने के लिए ही बनाया गया है। अपने आस पास के लोगों को भी इस बारे में जागरूक करें और अखबारों का इस्तेमाल बंद करने के लिए कहें।

Back to top button
E-Paper