सीतापुर : तहसील का निरीक्षण कर डीएम ने व्यवस्थाएं दुरूस्त करने के दिये निर्देश

मिश्रिख-सीतापुर। जिलाधिकारी अनुज सिंह द्वारा गुरूवार को मिश्रिख तहसील का निरीक्षण किया गया। इसके साथ ही पौराणिक मिश्रिख के दधीचि कुंड की साफ-सफाई व जलनिकासी समस्या के निवारण हेतु अधिशाषी अधिकारी को निर्देश दिए। आज सुबह से ही तहसील में चहल पहल व अधिकारियों की भागादौड़ी शुरू हो गई थी जिसको देख कर ही पता लग रहा था कि आज कुछ विशेष है।

डीएम अनुज सिंह के ताबड़तोड़ निरीक्षण से मचा अधिकारियों में हड़कंप

जिलाधिकारी के जिले में पदभार ग्रहण करते ही अपने तेवर दिखा ही चुके है जिस प्रकार से उन्होंने शिक्षा विभाग में बड़ी कार्यवाही करते हुए लंबे समय से अनुपस्थित चले आ रहे 19 अध्यापकों को निलंबित कर पहले ही संकेत दे दिए थे कि अब किसी विभाग में लापरवाही और भ्रष्टाचार बर्दास्त नही किया जायेगा और तत्काल उस पर कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी ऐसे में यह निरीक्षण भी अहम था। यह निरीक्षण कार्यक्रम 1.30 घंटे चला जिसमे संग्रह विभाग, राजस्व निरीक्षक कार्यालय, संग्रह अभिलेखागार भूलेख के सभी रजिस्टर चेक किये और अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए कि अवैध रूप से कब्जा जमीनों की जांच कर आवश्यक कार्यवाही करें।

मिश्रित तहसील व दधीचि कुण्ड तीर्थ का किया निरीक्षण

जांच में साफ-सफाई और फर्नीचर व आम जनमानस के बैठने हेतु व्यवस्थाओं को सुदृढ बनाने के निर्देश देते हुए बताया कि एक महीने बाद दोबारा निरीक्षण के दौरान इन सारी व्यवस्थाओं में सुधार होगा। आवारा गोवंश की समस्या पर प्रश्न किये जाने पर जिलाधिकारी ने बताया कि प्रत्येक न्याय पंचायत में गोआश्रय स्थल बनाये जाने के निर्देश दिए गए है। जहां 32 न्याय पंचायतों में 25 में जगह चिन्हित की गई जिनमे 7 संचालित है और 6 स्थानों पर कार्य चालू है। यह सारी व्यवस्था हम 2 से 3 महीनों में और अच्छी करने का प्रयास करेंगे। इसके पश्चात तहसील मे जिलाधिकारी द्वारा परिसर में वृक्षारोपण किया गया।

दधीचि कुंड का किया निरीक्षण

तहसील निरीक्षण के पश्चात जिलाधिकारी का काफिला पौराणिक दधीचि कुंड पहुंचा जहाँ पुरोहित राहुल शर्मा द्वारा तीर्थ व मंदिर के पौराणिक इतिहास के बारे में वर्णन किया गया। जिलाधिकारी ने तीर्थ में मार्जन किया और तीर्थ में महर्षि दधीचि की तपोस्थली व अस्थिदान स्थल के दर्शन किए। यहां के लोगों ने तीर्थ की मूलभूत समस्याओ के बारे में जानकारी दी तथा तीर्थ के जल निकासी, साफ-सफाई तथा प्रकाश की समस्या के बारे में अवगत कराया। जिस पर जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारी को इन समस्यायों को तत्काल संज्ञान में लेकर निदान करने के निर्देश दिए तथा एक हफ्ते में तीर्थ की सफाई कराने का उचित प्रबंध व व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने को उपजिलाधिकारी को निर्देशित किया।

Back to top button