सीतापुर : डीएम ने चैपाल लगा सुनी ग्रामीणों की समस्याएं

सीतापुर। जिलाधिकारी अनुज सिंह ने विकास खण्ड हरगांव की ग्राम पंचायत पचहेरा में ग्रामीण जन चैपाल लगाकर लोगों की समस्याओं को सुना। चैपाल के दौरान उन्होंने अधिकारियों को दस दिनों में समस्याओं के निस्तारण हेतु निर्देशित किया।

पीडब्लूडी को लगाई फटकार

ग्रामीणों की शिकायत पर पांच माह पूर्व बनी सड़क टूट जाने पर लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियन्ता को निर्देश दिये कि त्वरित टूटी सड़कों का दुरूस्तीकरण कराया जाये। उन्होंने समाज कल्याण अधिकारी का जवाब तलब करते हुये कहा कि बिना जांच किये पेंशन आवेदन पत्रों को खारीज क्यों किया गया।

सीतापुर साहब चार माह पहले बनी सड़क टूट गई

इस पर समाज कल्याण अधिकारी द्वारा ए0डी0ओ0 पंचायत से जिलाधिकारी के समक्ष जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। जवाब से असंतुष्ट जिलाधिकारी ने कड़े निर्देश दिये कि पेंशन आवेदन पत्रों का ईमानदारी से जांच कर पात्रों को इसका लाभ दिया जाये।

विद्युत कटौती पर लगे नियंत्रण

विद्युत विभाग को निर्देशित किया कि यथा सम्भव विद्युत कटौती पर नियंत्रण लगाया जाये एवं रोस्टरवार गांवों में विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाये। खराब ट्रांसफार्मर बदले जाए। विद्युत अधिकारी अपना फोन हर-हाल में उठाये। गांव की गलियों की साफ-सफाई एवं मरम्मत के निर्देश ग्राम प्रधान एवं ग्राम पंचायत अधिकारी को दिये। क्षतिग्रस्त एवं रिबोर होने योग्य हैण्डपम्प ठीक किए जाए।

तालाबों से हटाए जाएं अवैध कब्जे

जिलाधिकारी ने तालाबों पर अवैध कब्जें को हटवाये जाने हेतु उपजिलाधिकारी सदर को पैमाईस कराकर कब्जा मुक्त कराने के निर्देश दिये। प्राथमिक विद्यालयों के समस्त पैरामीटरों को जल्द से जल्द पूर्ण करने के निर्देश संबंधित को दिये। इसके साथ ही लोगों से अपील की कि खुले में शौंच न जायें, खुले में शौंच की परम्परा को तोड़ें, जिनके पास शौचालय उपलब्ध नही हैं वह ग्राम पंचायत में स्थित सामुदायिक शौचालय का प्रयोग करें, जिससे स्वच्छता बनी रहे एवं बीमारियों के प्रकोप से बचा जा सके। शौचालयों का प्रयोग सिर्फ शौचालय के लिये किया जाये, उसमें लकड़ी, कंडे या अन्य सामग्री न रखी जाये।

गांवों में बनाई जाए लाइब्रेरी

जिलाधिकारी ने ग्राम पंचायत में स्थापित लाइब्रेरी में गुणवत्तायुक्त पुस्तकों को रखवाने के निर्देश ग्राम पंचायत अधिकारी को दिये। इसके साथ ही लाइब्रेरी में प्रत्येक दिन अखबारों को भी रखवाया जाये, जिससे गांव के बच्चों एवं नागरिकों को इसके माध्यम से विभिन्न प्रकार की जानकारियां प्राप्त हो सकें एवं गांव के बच्चों को शिक्षण से संबंधित वह सभी सुविधाएं मिल सकें जिसके लिये वह शहरों के लिये पलायन करते हैं। जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित किया कि आंगनबाड़ी केन्द्रों पर राशन वितरण से संबंधित लिस्ट दिवारों पर वाल पेंटिंग के माध्यम से दर्शायी जायें, जिससे लोगों को पूरी जानकारी मिल सके। इसी तरह आंगनबाड़ी केन्द्रों पर राशन वितरणकर्ता का मोबाइल नम्बर भी पेंटिंग के माध्यम से दर्शाया जाये।

डीपीआरओ पर जताई नाराजगी

लोगों द्वारा विभिन्न प्रकार की शिकायतें मिलने पर जिला पंचायत राज अधिकारी पर नाराजगी व्यक्त करते हुये कड़े निर्देश दिये कि जनपद में रोस्टर के माध्यम से पंचायत स्तर पर बैठक की तिथि का निर्धारण किया जाये, जिसमें लेखपाल, ग्राम पंचायत अधिकारी एवं अन्य संबंधित अधिकारी की उपस्थिति अनिवार्य की जाये एवं समस्याओं का पंचायत स्तर पर ही समाधान सुनिश्चित किया जाये।

इस दौरान एसडीएम अनिल कुमार, डीडीओ राकेश कुमार पाण्डेय, बीएसए अजीत कुमार, जिला समाज कल्याण अधिकारी हर्ष मवार, उप निदेशक कृषि अरविन्द मोहन मिश्रा, डीएसओ संजय कुमार प्रसाद सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

डीएम ने सीएचसी का किया निरीक्षण

जिलाधिकारी अनुज सिंह ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हरगांव का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने इंसेफ्लाईटिस ट्रीटमेंट रूम की व्यवस्थाओं की जांच की, जिसमें मच्छरदानी युक्त बेड, दवाओं के विवरण का रजिस्टर को देखा तथा दवाओं की एक्सपायरी तिथि की भी जांच की। इसके अतिरिक्त बच्चों के मास्क की उपलब्धता, कंसल्ट्रेटर आदि की गुणत्ता को भी परखा।

दवाओं का चार्ट में अंकित दवाओं सामने निकलवाकर जानकारी ली। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में बिजली कटौती की शिकायत पर अधिशासी अभियन्ता विद्युत हरगांव को निर्वाध विद्युत आपूर्ति के लिये निर्देशित किया। इसके अतिरिक्त फीवर क्लीनिक कक्ष, दवा भण्डारण कक्ष, आर0बी0एस0के0 लैब कक्ष का निरीक्षण कर व्यवस्थाएं देखीं।

लैब कक्ष में कर्मचारियों का ड्यूटी चार्ट के रजिस्टर को भी देखा। अवकाश पर गये कर्मचारियों के आवेदन पत्रों को भी जांचा। महिला वार्ड के निरीक्षण के दौरान बेहतर साफ-सफाई के निर्देश भी जिलाधिकारी ने दिये।

Back to top button