पुलिस लाइन में चला सोलर चरखा, 25 महिलाओं को मिला रोजगार



नोएडा। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह की धर्मपत्नी आकांक्षा सिंह ने गुरुवार को ग्रेटर नोएडा पुलिस लाइन में उत्तर प्रदेश खादी ग्रामोद्योग की ओर से आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में कहा कि खाकी और खादी साथ—साथ आकर बड़ा बदलाव ला सकते हैं। एक मज़बूत समाज के लिए महिलाओं का योगदान हमेशा से रहा है। आज एक बार फिर इस सहयोग की ज़रूरत है। सभी महिलाओं को आगे आना चाहिए। इससे ना सिर्फ़ अपनी आजीविका के लिए काम करेंगी अपितु राष्ट्र निर्माण में भी बड़ा सहयोग देंगी। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह और आकांक्षा सिंह की पहल पर खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग ने पुलिस लाइन में सोलर चरखा प्रशिक्षण प्रारंभ किया है।


जिला खादी ग्रामोद्योग अधिकारी संजय श्रीवास्तव ने बताया कि पुलिस लाइन में 15 दिवसीय सोलर चरखा प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ गुरुवार को किया गया है।  प्रशिक्षण के बाद सभी महिलाओं को सूत से धागा बनाने का काम दिया जाएगा। जिससे प्रत्येक महिला को प्रति किलोग्राम 120 रुपये की दर से भुगतान किया जाएगा। प्रतिदिन केवल 7-8 घंटे काम करने पर एक महिला 300 से 360 रुपये कमा सकती है।  इससे महिलाएं और अधिक स्वावलंबी बनेंगी। संजय श्रीवास्तव ने बताया कि खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग ने लगभग 25 महिलाओ को 11 लाख रुपये कीमत के सोलर चरखे निःशुक्ल दिए हैं। सभी महिलाओं को कच्चे माल की नियमित आपूर्ति और तैयार माल की खरीद के साथ समय से भुगतान करने के लिए विभाग ने खादी संस्थान के साथ अनुबंध भी कर लिया है। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने बताया कि देश मे सोलर चरखा को मान्यता देने वाला उत्तर प्रदेश पहला राज्य है। खादी के जरिए पुलिस विभाग के परिवारों को अतिरिक्त आय होगी।

Back to top button
E-Paper