सतर्क रहें ! बिहार में चुपके से पंख फैला रहा डेंगू, जानिए आपके क्षेत्र का क्या है हाल?

बिहार में डेंगू चुपके से अपने पंख फैला रहा है और पटना इसका हॉट स्पॉट बन चुका है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में अबतक कुल 2363 डेंगू मरीजों की पहचान हुयी है। इनमें सर्वाधिक मरीज 1806 पटना के हैं। दूसरे राज्यों से बिहार आए कुल 14 लोगों भी डेंगू से पीड़ित पाएं गए हैं। इसके बाद राज्य में दूसरा सबसे बड़ा हॉटस्पॉट नालंदा बना हुआ है।

यहां अब तक कुल 202 डेंगू मरीजों मिले हैं। पटना में 1 और नालंदा में 2 डेंगू पीड़ित की इलाज के दौरान अबतक मौत हुयी है। हालांकि पारिजन एवं अन्य सूत्रों के अनुसार नालंदा में अब तक कुल 436 डेंगू मरीज मिले हैं। कुल 13 की मौत हो चुकी है, जबकि गोपालगंज में कुल 67 पीड़ित चिन्हित किए गए हैं और यहां 5 की मौत भी हुई हैं।

बिहार के 9 सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में डेंगू जांच की मुफ्त सुविधा उपलब्ध है। इनके अतिरिक्त IGIMS, AIIMS पटना, राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट में भी डेंगू की जांच की जा रही है। इन स्वास्थ्य संस्थानों में डेंगू की जांच भारत सरकार द्वारा अधिकृत NS-1 एलाइजा और IGM एलाइजा किटों के माध्यम से की जाती है। राज्य सरकार इन्हीं जांच के आधार पर डेंगू पीड़ित की पुष्टि भी करती है। विभागीय सूत्रों के अनुसार जिलास्तर पर डेंगू की जांच रैपिड किट से होती है। रैपिड जांच में पॉजिटिव पाए जाने पर मरीज का ब्लड सैंपल मेडिकल कॉलेज अस्पताल में NS-1 एलाइजा जांच के लिए भेजा जाता है, तभी डेंगू की पुष्टि हो पाती है।

Back to top button