VIDEO : CCTV में कैद हुई एक महिला, जिससे खुदकुशी से ठीक पहले में मिले थे भय्यूजी महाराज?

आध्यात्मिक संत भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली।  इस बीच एक ऐसा वीडियो सामने आया है, जिसमें खुदकुशी से ठीक एक दिन पहले सोमवार को भय्यूजी महाराज एक रेस्टोरेंट में एक महिला से मिलते हुए नजर आ रहे हैं।

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और देश की सियासत में बड़ा दखल रखने वाले आध्यात्मिक संत भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। भय्यूजी महाराज अपनी लग्जरी लाइफ और गाड़ियों के शौक को लेकर अक्सर चर्चाओं में रहते थे। अभी तक की जांच में उनकी खुदकुशी के पीछे पारिवारिक विवाद को वजह बताया जा रहा है। इस बीच एक ऐसा वीडियो सामने आया है, जिसमें खुदकुशी से ठीक एक दिन पहले सोमवार को भय्यूजी महाराज एक रेस्टोरेंट में एक महिला से मिलते हुए नजर आ रहे हैं। दोनों के बीच करीब एक घंटे की मुलाकात हुई।

गुलाबी रंग की ड्रेस पहने मिलने आई महिला

गुलाबी रंग की ड्रेस पहने मिलने आई महिला

मीडिया की खबर के मुताबिक खुदकुशी करने से ठीक एक दिन पहले सोमवार दोपहर को भय्यूजी महाराज अपने दो साथियों के साथ ‘अपना स्वीट्स’ नामक रेस्टोरेंट में पहुंचे। कुछ देर बाद गुलाबी रंग की ड्रेस पहने एक महिला भी रेस्टोरेंट पहुंची और भय्यूजी महाराज के सामने आकर बैठ गई। इसके बाद दोनों के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई। भय्यूजी महाराजा और इस महिला की मुलाकात के दौरान दोनों फोन पर भी किसी से बात करते हुए नजर आए।दोनों के बीच इस मुलाकात की तस्वीरें रेस्टोरेंट के सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गईं।

मुलाकात के दौरान क्यों परेशान थे भय्यूजी महाराज?

मुलाकात के दौरान क्यों परेशान थे भय्यूजी महाराज?

मुलाकात खत्म कर करीब साढ़े चार बजे यह महिला रेस्टोरेंट से बाहर चली गई और इसके कुछ देर बात भय्यूजी महाराज भी वहां से बाहर निकल गए। इस मुलाकात का वीडियो सामने आने के बाद जब इस बारे में रेस्टोरेंट स्टाफ से बात की गई तो उसने बताया कि मुलाकात के दौरान भय्यूजी महाराज परेशान नजर आ रहे थे। वीडियो में दिख रही महिला के बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। मुलाकात के ठीक 24 घंटे बाद भय्यूजी महाराज ने गोली मारकर खुदकुशी कर ली।

आखिर क्या थी सुसाइड की वजह?

आखिर क्या थी सुसाइड की वजह?

आपको बता दें कि आध्यात्मिक संत भय्यूजी महाराज अपने राजनीतिक संबंधों को लेकर अक्सर चर्चाओं में रहते थे। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने पिछले दिनों उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा भी दिया था, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था। यूपीए सरकार के समय जनलोकपाल बिल की मांग को लेकर दिल्ली में धरने पर बैठे समाजसेवी अन्ना हजारे का अनशन तुड़वाने में भय्यूजी महाराज ने मध्यस्थता की थी। पुलिस को मिले भय्यूजी महाराज के सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा है कि वो किसी तनाव से पीड़ित हैं और इसी वजह से उन्होंने ये कदम उठाया है।

Back to top button
E-Paper