कानपुर हिंसा के मास्टर माइंड को फंडिग करने वाले बिल्डर समेत तीन की इमारतें सील, पढ़िए पूरी खबर

कमिश्नरेट पुलिस ने केडीए के सहयोग से की बड़ी कार्रवाई

सील इमारतों के मालिकों की भूमिका तीन जून के उपद्रव में आई थी सामने

कानपुर। कानपुर हिंसा मामले की जांच में जुटी पुलिस को रोजाना कुछ न कुछ नया मिल रहा है। जांच में सामने आया कि मास्टर माइंड हयात जफर हाशमी को बिल्डर हाजी वसी फंडिग करता था। इस पर पुलिस ने केडीए के सहयोग से हाजी की चकेरी स्थित निर्माणाधीन अवैध इमारत को सील कर दिया। इसके साथ ही दो अन्य की भी अवैध इमारतों को सील किया गया। जिन दो अन्य इमारतों को सील किया गया उसमें भी हाजी वसी का नाम सामने आ रहा है कि दोनों इमारतों में उसका रुपया लगा है।

थाना बेकनगंज में तीन जून को जुमे की नमाज के बाद हुई घटना के आरोपियों पर पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है। पुलिस ऐसे लोगों के विरुद्ध कार्यवाही कर रही है जिनकी या तो इस घटना में भूमिका थी या फिर उनके द्वारा किसी रूप में घटना में सहयोग किया गया था। इसी के तहत पुलिस ने रविवार को न केवल तीन ऐसे व्यक्तियों का चिन्हीकरण किया, बल्कि उनकी संपत्तियों का भी चिह्नीकरण किया है। चिन्हित किए गए लोगों में बिल्डर हाजी वशी, सलीम उर्फ जॉनी वॉकर व एचएस मलिक शामिल हैं।

इसमें सलीम उर्फ जॉनी वॉकर की एक बिल्डिंग का थाना बेकनगंज क्षेत्र में चिह्नीकरण कर केडीए की टीम के माध्यम से उसे सील कराया गया है। वहीं, एच.एस. मलिक की प्रॉपर्टी को थाना चमनगंज क्षेत्र अंतर्गत सील किया गया है। जबकि हाजी वशी की संपत्ति का चकेरी क्षेत्र में चिन्हीकारण कर केडीए के माध्यम से उसे सील कराया गया है। जल्द ही इन तीनों संपत्तियों पर अग्रिम कार्यवाही की जाएगी। तीनों में हाजी वशी, जिनकी संपत्ति चकेरी में चिन्हित की गई है, वह घटना के मास्टर माइंड हयात जफर हाशमी का मुख्य फंडिंग करने वाला है। शेष दो की भूमिका की भी विस्तृत रूप से जांच की जा रही है। संपूर्ण जांच के बाद इन सभी के विरुद्ध बड़ी कार्यवाही भी की जा सकती है।

Back to top button