योगी सरकार की कैबिनेट की बैठक, तबादला नीति 2022 को मंजूरी, जानिए और भी अहम फैसले

लखनऊ: सीएम आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक में तबादला नीति 2022 को मंजूरी दे दी गई. इसकी जानकारी अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने दी. उन्होंने बताया कि इस नीति के तहत 15 से 30 जून तक तबादले किए जाएंगे. बैठक में पुलिस के 40 हजार पदों पर भर्ती के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी गई. बैठक में कृषि, उच्च शिक्षा, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा, पर्यटन एवं संस्कृति सहित विभिन्न विभागों के करीब डेढ़ दर्जन प्रस्तावों पर चर्चा हुई.अपर मुख्य सचिव गृह ने बताया कि रेडियो शाखा में 2430, कांस्टेबल व इसके समकक्ष पदों के लिए 26382, कांस्टेबल पीएसी के 8540, जेल वार्डर के 1582 सहित अन्य पदों पर भर्ती होगी. इसका अधियाचन पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड को मिल गया है. उन्होंने बताया कि जल्द ही भर्ती प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर पुलिस विभाग में 100 दिन के टारगेट के तहत 10 हजार पुलिसकर्मियों के भर्ती के लक्ष्य को निर्धारित समय से पहले पूरा कर लिया गया है. इसमें 9534 सब इंस्पेक्टर की भर्ती की गई थी, इस भर्ती में 1805 महिला सब इंस्पेक्टर शामिल थी. अवस्थी ने बताया कि इस भर्ती में प्रदेश पुलिस के इतिहास में सेवाएं देने के लिए विभिन्न उच्च शैक्षिक व तकनीकी योग्यताओं वाले अभ्यर्थी भर्ती हुए हैं. इसमें बीई-बीटेक के 1477, बीसीए के 125, बीबीए के 43, एलएलबी के 4 डिग्री धारक सब इंस्पेक्टर बने हैं. उन्होंने बताया कि योगी सरकार 1.0 में पुलिस विभाग में विभिन्न पदों पर 1 लाख 53 हजार से अधिक भर्तियां की गयी थी, जिसमें महिलाओं की संख्या 22 हजार थी.

कर्मचारियों के लिए अच्छी खबरः पिछले कई महीने से अपने तबादलों का इंतजार कर रहे कर्मचारियों के ट्रांसफर को लेकर राज्य सरकार ने कैबिनेट बैठक के माध्यम से उत्तर प्रदेश की स्थानांतरण नीति को मंजूरी प्रदान की है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में स्थानांतरण नीति 2022 को मंजूरी दी गई है. इसके अंतर्गत उत्तर प्रदेश में सरकारी विभागों के कर्मचारियों के तबादले 15 से लेकर 30 जून तक किए जाएंगे. तबादला नीति मंजूरी मिलने के बाद उत्तर प्रदेश के तमाम सरकारी विभागों और अन्य निगम कारपोरेशन बोर्ड के सरकारी कर्मचारियों के एक जगह से दूसरी जगह ट्रांसफर किए जा सकेंगे.

सरकारी कर्मचारी उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद से इंतजार कर रहे थे. सरकार के स्तर पर हर साल मार्च से लेकर अप्रैल मई तक हर हाल में तबादला नीति के अंतर्गत कर्मचारियों की ट्रांसफर होते थे. लेकिन इस बार स्थानांतरण नीति को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे थे. पहले सूचना मिल रही थी सरकार स्थानांतरण नीति को शून्य करने जा रही है और कर्मचारियों के तबादले नहीं किए जाएंगे. लेकिन मंत्रिमंडल की बैठक के माध्यम से तबादला नीति को मंजूरी प्रदान कर दी गई.

Back to top button