सीएनडीएस की निर्माण इकाई ने वर्ष 2015 से ढाई करोड़ की लागत से 48 आसरा आवासो को पहनाया अमली जामा

अब आसरा आवास योजना मे पात्रो का चयन कब होगा हूजूर !

अभी निकाय प्रशासन को हैण्डओवर नही हुए आवास फिर भी आवास दिलवाने के नाम पर शुकराना का खेल- खेल गए लोग

भास्कर न्यूज
जरवल/बहराइच।
सरकारी योजनाओं को जमीन पर जब उतारने मे लेट-लतीफी होने लगे तो समझ लो सरकारी मशीनरी अपने कर्तव्यों का कितना निर्वाहन कर रहा है इसकी एक बानगी आसरा आवास योजना मे जरूर देखने को  मिल रही है। बताते चले एक अदत छत के सहारा की उम्मीद पर विभागिय अधिकारी बीते पाँच वर्ष से पूरी नही कर पा रहे है जब कि जरवल नगर पंचायत के चौक वार्ड मे बन कर तैयार 48 आसरा आवास की चाक-चौबंद व्यवस्था को आसरा आवास योजना को जमीन पर लाने के लिए तकरीबन ढाई करोड़ की लागत से निर्माण इकाई सीएनडीएस के द्वारा ठेकेदार डा. अरुण कुमार श्रीवास्तव से तैयार करवाए गए चार दर्जन आवासों मे लैट्रीन, किचन, बाथरूम व रंग-रोगन आदि की व्यवस्था भी करवा दी गई है।लेकिन निकाय प्रशासन को अभी भी हैण्डओवर नही किया गया है जिससे गरीबो को छत की मिलने वाली उम्मीद पर ग्रहण लगता दिखाई दे रहा है। इस तरह की विभागीय देरी को लेकर एक जनचर्चा यह भी है कि कस्बे के कुछ बड़बोले नेता जो निकाय प्रशासन के अलावा डूडा विभाग मे अपना दखल रखते है तमाम पात्र गरीब ही नही अपात्रो से भी आवास दिलाने के नाम पर जमकर धनउगाही भी कर डाली है इस तरह की वसूली करने वाले लोग लोगो से बताते है कि विभाग मे पैसा देना पडेगा वही से सूची फाइनल होगी जिन लोगो का नाम आवेगा उन्हे ही आवास दिए जावेगे।

जबकि इस तरह बड़बोले नेताओ की करतूत से डूडा विभाग अनभिज्ञ सा है। बताते चले वर्ष 2015 से सीएनडीएस की निर्माण इकाई द्वारा प्रोपराइटर डा. अरुण कुमार श्रीवास्तव से जो आवासों की छत डाली गई है अब ये इमारत पूरी तरह बनकर तैयार तो हो चुकी है विभागीय लोग निकाय प्रशासन को हैण्डओवर क्यो नही कर रहा है अब तमाम तरह के सवालों को जन्म देना शुरू कर दिए है। वैसे जानकारों की माने तो आसरा आवास योजना को मौजूदा भाजपा सरकार पण्डित दीन दयाल आवास योजना का नाम देने का शायद मन बना रही है जिस कारण आसरा आवास मिलने मे लेट लतीफी की जा रही है।


अभी तीन-चार महीने लग सकते है आवास के आवंटन मे-संजय सिंह

जरवल। तैयार हो कर खड़े आसरा आवास के आवंटन मे हो रही देरी को लेकर संजय सिंह परियोजना अधिकारी(पीओ) बहराइच से जब बात हुई तो उन्होंने बताया कि लोगो को आसरा आवास के लिए तीन-चार महीने का और भी इंतजार करना पड़ सकता है। पात्रो की सूची विभागीय लोगो से जल्द ही तैयार करवा दी जावेगी। अवैध वसूली की बात भी संज्ञान मे आ रही है एसे लोगो के खिलाफ विधिक कार्यवाही करवाई जावेगी।

Back to top button
E-Paper