अब बीजेपी विधायकों से अपनी बेटियों को बचाना है : राहुल

नयी दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर ‘अच्छे दिन’ का वादा पूरा नहीं करने, भ्रष्टाचार मिटाने, महंगाई रोकने तथा सुशासन देने में पूरी तरह असमर्थ रहने का आरोप लगाते हुए कहा है कि देश की जनता की उम्मीदों को बनाये रखने तथा इस सरकार का मजबूत विकल्प देने के लिए कांग्रेस को पूरी ताकत के साथ काम करने की जरूरत है।

मौजूदा हालात देखकर समझ नहीं आ रहा है कि बेटियों को कैसे बचाया जा रहा

राहुल गांधी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में महिला अधिकार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि आज देश में आलम यह है कि लोग बीजेपी के विधायकों से अपनी बेटियों की सुरक्षा करने को मजबूर हैं. उन्होंने कहा कि सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की बात करती है, लेकिन मौजूदा हालात देखकर समझ नहीं आ रहा है कि बेटियों को कैसे बचाया जा रहा है. देश भर में बेटियों के बीच असुरक्षा का भाव पैदा हो गया है.

Image result for action me rahul gandhi

महिलाओं को पुरुषों के बराबर लाने के लिए कांग्रेस पार्टी हरसंभव कोशिश करेगी.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनते ही वे संसद में महिला आरक्षण बिल लाएंगे. उन्होंने अगर मौजूदा सरकार महिला आरक्षण बिल लाती है तो कांग्रेस उसका समर्थन करेगी. राहुल गांधी ने कहा कि समाज की महिलाओं को पुरुषों के बराबर लाने के लिए कांग्रेस पार्टी हरसंभव कोशिश करेगी. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा यह है कि केवल पुरुष ही इस देश को चलाएंगे. केंद्र की मौजूदा सरकार को महिलाओं की कद्र नहीं है. पीएम मोदी रेप की घटनाओं पर कुछ नहीं बोलते हैं. पिछले चार साल में महिलाओं पर जितने अत्याचार हुए हैं, उतने पिछले 70 साल में नहीं हुए.

देश की अर्थव्यवस्था लड़खड़ा गयी है

गांधी ने मंगलवार को कांग्रेस संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया है, देश की अर्थव्यवस्था लड़खड़ा गयी है, शासन प्रशासन लुंजपुंज हो गया है और समाज में विभाजन की स्थिति पैदा की जा रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने चार साल पहले देश की जनता से जो वादे किए थे, उन्हें पूरा करने में उसकी सरकार पूरी तरह विफल हो गयी हुयी है और देश इस सरकार का विकल्प चाहता है इसलिए कांग्रेस को जनता को सशक्त विकल्प देने की दिशा में संघर्ष करने की जरूरत है।

RSS महिला विरोधी है 

हमारी RSS महिलाओं की एंट्री बैन है.विचारधारा BJP-RSS विचारधारा में महिलाओं को लेकर बड़ा फर्क है. RSS महिलाओं की एंट्री बैन है. मैं पूछना चाहता हूं कि आखिरकार RSS में महिलाओं को जगह क्यों नहीं दी जाती, उनको पद क्यों नहीं मिलता है. महिला RSS की स्वयं सेवक नहीं हो सकती. देश में मोदी ने बीजेपी ने और उनकी विचारधारा ने आग लगा दी है, चाहे वह नोटबंदी हो चाहे वह जीएसटी हो, चाहे वह किसानों की हालत हो मनरेगा हो, या जहां भी आप देखेंगे वहां पर गरीबों पर आक्रमण बार-बार हो रहा है.

Back to top button
E-Paper