जोधपुर दंगे का खौफनाक मंजर : बाइक पर जा रहे युवक की पीठ में दंगाइयों ने घोंपा चाकू, डॉक्टरों ने…

जोधपुर। झंडा लगाने को लेकर जोधपुर में शुरू हुई हिंसा के चार दिन बाद लोगों की जिंदगी पटरी पर लौटने लगी है। इस बीच दंगे का अब तक का सबसे खौफनाक वीडियो सामने आया है। CCTV फुटेज में साफ दिख रहा कि दंगाइयों ने कैसे बाइक पर जा रहे युवक को दौड़ाकर उसकी पीठ पर चाकू घोंप दिया।

यह युवक दीपक है, जो मंगलवार को हुई हिंसा में घायल हुआ था। उपद्रव वाले दिन दो भाई दीपक और लोकेश सिंह दंगे के दौरान लोगों को घरों में ही रहने और दुकानें बंद करने के लिए अलर्ट कर रहे थे। दोनों भाई मोती चौक से सुनारों की गली होते हुए सिलवाटों के पास आते ही सामने दंगाइयों की भीड़ मिली , उनके हाथों में हथियार थे।

लोकेश ने भीड़ देख दौड़ाई गाड़ी

भीड़ देख लोकेश ने गाड़ी दौड़ाई। दीपक पीछे सीट पर बैठा था। इसी बीच सफेद कपड़ों में एक युवक दौड़ते हुए उनकी बाइक का पीछा करने लगा। दोनों कुछ समझते इससे पहले उस दंगाई ने दीपक की पीठ में चाकू मार दिया। दहशत के उस दिन की कहानी अब लोकेश की जुबानी सुनिए…।

दंगाई मुंह पर कपड़ा बांधे थे

लोकेश के मुताबिक, ‘दंगाई मुंह पर कपड़ा बांधे थे। चिल्ला रहे थे इनको मार दो-काट दो। देखते ही हम लोगों को अलर्ट करने लगे। इस बीच पता ही नहीं चला कब एक दंगाई ने चाकू मार दिया। चाकू लगते ही दीपक अचेत हो गया। वह बाइक रोकने का कहने लगा। गिरने की स्थिति में आ गया। एक बार लगा कि उसे पत्थर लगा है। वह बोला भी कि उसे पत्थर मार दिया बाइक रोक दो, लेकिन मैंने जो हालात देखे बाइक नहीं रोक सकता था।

डॉक्टरों ने निकाला पीठ से चाकू

डेढ़ किलोमीटर दूर महिला बाग हॉस्पिटल लेकर पहुंचा तो पता चला पत्थर नहीं पीठ में चाकू लगा था। यहां से उसे मथुरादास माथुर अस्पताल ले गया। शाम करीब तीन बजे दीपक को ऑपरेशन थियेटर में ले गए। बाद में डॉक्टरों ने चाकू निकाला।’

हॉस्पिटल में भर्ती दीपक के लगे सात टांके

दीपक अब भी MDM अस्पताल में भर्ती है। उसे सात टांके आए हैं। अभी हालात ठीक है। इसी मोहल्ले की रहने वाले दुर्गा कट्‌टा ने बताया कि मैं गैलरी में खड़ी थी। एक सफेद कपड़े पहने लड़के ने चाकू मारा। चाकू लगने के बाद भी वह युवक उसके पीछे दौड़ता रहा।

Back to top button