…तो क्या पालघर में फिर लौटेगा माफिया राज ?

मुंबई । पालघर के पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह, पदभार ग्रहण करते ही जिले से माफिया राज और आपराधिक गिरोहों को उखाड़ फेखने के लिए कड़ी कार्यवाही कर रहे थे। जिससे लगातार वह माफियाओं के निशाने पर थे। एक बार तो रेत माफियाओं के हमले में वह बाल-बाल बच गए थे। अब देश को झकझोर कर रख देने वाले संत हत्याकांड में उन्हें अनिवार्य रूप से छुट्टी पर भेजने के बाद उनके तबादले की खबरे गर्म है।

जिसके बाद कई सामाजिक संघठनो ने आरोप लगाया है, खनन माफिया और अवैध धंधे से जुड़े लोग एसपी गौरव सिंह का तबादला करवाना चाहते है। जिससे एक बार फिर पालघर जिले में माफिया राज लौट आएगा। भाजपा नेता मनोज बारोट ने आरोप लगाया कि संत हत्याकांड में जांच से ध्यान भटकाने और अवैध धंधे से जुड़े लोगों को फायदा पहुँचाने के लिए एसपी गौरव सिंह को छुट्टी पर भेजा गया है। विहिप के महाराष्ट्र-गोवा प्रदेश के क्षेत्रीय मंत्री शंकर गायकर ने कहा एसपी गौरव की सिंह की आड़ में सरकार अपनी नाकामी छुपाना चाहती है।

गायकर ने कहा इस जघन्य हत्याकांड की नैतिकता के आधार पर जिम्मेदारी लेते हुए खुद गृहमंत्री अनिल देशमुख को अपना त्यागपत्र देना चाहिए। बजरंग दल के कोंकण प्रांत के संयोजक संदीप भगत ने कहा कि मानवता को झकझोर कर रख देने वाले इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी अभी अभी फरार है। उन्होंने कहा मामले को फास्टट्रैक कोर्ट में चलाकर संतो की हत्या के सभी दोषियों को जल्द फांसी दी जाए।

Back to top button
E-Paper